Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कश्मीरः आपस में लड़ सकते हैं आतंकी बड़ी लड़ाई, वजह है कुर्सी

खुफिया सूत्रों के मुताबिक, इस समय दक्षिणी कश्मीर में 200 आतंकी सक्रिय हैं, इनमें से 110 आतंकी स्थानीय हैं।

कश्मीरः आपस में लड़ सकते हैं आतंकी बड़ी लड़ाई, वजह है कुर्सी

हिजबुल मुजाहिदिन के दो टॉप कमांडरों के खात्मे के बाद घाटी में मौजूद आतंकी संगठनों के बीच में हिजबुल चीफ बनने की होड़ मच गई है। पहले बुरहान वानी और अब सबजार अहमद बट के मारे जाने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन में चीफ का पद खाली हो गया है।

हिंदुस्तान टाइम्स के मुताबिक, हिजबुल में जिंदा बचे सबसे पुराने कमांडर रियाज नायको को हिजबुल का कमांडर बनाया जा सकता है। इस बीच दिलचस्प बात यह सामने आ रही है कि कमांडर के पद के लिए अब 2015 में लश्कर-ए-तैयबा छोड़कर हिजबुल में आने वाले सद्दाम पड्डेर और यासीन इटू ने भी इस पद के लिए अपना दावा ठोंक दिया है।

30 वर्षीय रियाज नायको पोस्ट ग्रेजुएट हैं और हिजबुल में उस वक्त से शामिल है, जब बुरहान वानी शामिल हुआ था। जाकिर के संगठन से अलग होने और बीते हफ्ते सबजार के मारे जाने के बाद कश्मीरी पंडितों का हिमायती माने जाने वाले रियाज को अगले चीफ के तौर पर देखा जा रहा था। हालांकि, सूत्रों के मुताबिक, वह खुद इस दौड़ से अलग हो गया है। उसने कहा है कि सद्दाम नया कमांडर बनने के मौके को अच्छे से भुनाएगा।

सूत्रों के मुताबिक, 25 साल का सद्दाम पहले भी हिजबुल कमांडर बनने की दौड़ में था, लेकिन मूसा ने बाजी मार ली थी। सद्दाम शोपियां के हेफ गांव से ताल्लुक रखता है। उसने 12वीं के बाद पढ़ाई छोड़कर पिता के बगीचे में हाथ बंटाना शुरू कर दिया था। उसने पांच साल पहले हथियार उठा लिया था। 2014 तक वह लश्कर के मॉड्यूल का हिस्सा था। उस वक्त अब्बास शेख, राहुल आमीन डार, वसीम शेख और फारूक बिजरान जैसे आतंकी उसके साथी थे।

खुफिया सूत्रों के मुताबिक, इस समय दक्षिणी कश्मीर में 200 आतंकी सक्रिय हैं, इनमें से 110 आतंकी स्थानीय हैं। पुलिस के मुताबिक, पुलवामा जिले में हिजबुल से 21 आतंकी जुड़े हुए हैं। बाकी के आठ लश्कर के कमांडर अबु दुजाना के साथ है। रियाज भी दुजाना ग्रुप का सदस्य था। बाद में उसने बुरहान वानी के अंडर में हिजबुल जॉइन कर लिया।

Next Story
Top