Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू-कश्मीर: सेना के निशाने पर आतंकियों की गन और गर्लफ्रेंड!

सेना और खुफिया एजेंसियां आतंकियों की गन और उनकी गर्लफ्रेंड्स की जानकारियों कलेक्ट कर रही हैं।

जम्मू-कश्मीर: सेना के निशाने पर आतंकियों की गन और गर्लफ्रेंड!

स्वतंत्रता दिवस को अब एक सप्ताह का ही समय बचा है। ऐसे में आतंकी अपने मंसूबों को अंजाम देने की फिराक में लगे हुए है तो वहीं सेना भी आतंकियों के सफाए के लिए ऑपरेशन जी स्क्वायर चला रही है।

इसके अंतर्गत सेना और खुफिया एजेंसियां आतंकियों की गन और उनकी गर्लफ्रेंड्स की जानकारियों कलेक्ट कर रही हैं।

आतंकी ऐसे जुड़े जी स्क्वायर

असल में मुंबई हमले के गुनहगार अजमल कसाब ने बताया था कि कैसे आतंक के प्रमुखों ने जन्नत की हूरों का लालच देकर उसे आतंक की भट्टी में झोंक दिया था।

इसे भी पढ़ेंः पुलिसवाले ने की शांति के लिए दुआ, हिफाजत में मुस्तैद CRPF जवान

बदलते वक्त के साथ अब आतंकवादी भी चालाक हो गए हैं। वे समझ गए कि जन्नत में हूरों से मिलने के लिए पहले मरना जरूरी है। इसलिए उन्होंने मरने में आनाकानी शुरू कर दी।

इससे निपटने आतंकी प्रमुखों ने यह कहना शुरू किया कि जन्नत में तो हूरें मिलेंगी ही पर उससे पहले जीते जी ज़मीन पर भी हूरें मिलेंगी। और इस तरह घाटी में ज्यादा आतंकियों की कोई न कोई गर्लफ्रेंड में होने लगी।

इसी को देखते हुए सेना ने ऑपरेशन जी स्कवायर काे को तैयार किया है यानी गन एंड गर्लफ्रैंड। गन और गर्लफ्रेंड का ये कॉकटेल कितना घातक होता है। ये घाटी के लोगों से बेहतर कौन जान सकता है। हाथों में एके-47 और बगल में लड़की। ये आतंक का नया ट्रेंड है ।

ऐसे होती कमांडिंग-

आतंक का ये प्लान जी स्क्वायर काम कैसे करता है, इस बारे में खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सरहद पार बैठे लश्कर और उसके जैसे आतंकी संगठन अपने ऐसे आतंकियों को जो दिखने में खूबसूरत और अच्छे डील डोल वाले हैं।

उनका बम-बंदूक के साथ रॉबिनहुड स्टाइल फोटोशूट करवाते हैं और वीडियो बनवाते हैं। ये वीडियो सोशल मीडिया और दूसरे तरीकों से घाटी में वायरल किया जाता है। इससे दो फायदे होते हैं।

पहला तो इन आतंकियों को भारतीय सेना से और घाटी में लड़ने के लिए हौंसला मिलेगा और दूसरा इलाके की लड़कियों के बीच उनकी हीरो जैसी इमेज बनती है।

ठीक किसी हनी ट्रैप की तरह। इसका परिणाम यह हुआ कि दुजाना जैसे कई आतंकी आज जिस घरों में डेरा डालते वहीं अपनी हवस की प्यास बुझाते हैं।

आतंकियों को ऐसे काम आते गन और गर्लफ्रेंड

इस घिनौने खेल को खेलते खेलते इन आतंकियों ने घाटी में कई-कई गर्लफ्रेंड्स बना रखी हैं. जिनसे वो फोन कॉल, व्हाट्स अप और चैटिंग की दूसरी साइट्स के ज़रिए संपर्क में रहते है।

इसे भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीरः पत्थरबाजों पर काबू पाने के लिए सेना करेगी 'बदबूदार बम' का इस्तेमाल

इनसे एक तो इन्हें सिर छुपाने के लिए जगह मिलती है और दूसरा घाटी में पैठ बनाने का मौका भी. मगर अब इनकी अय्याशी का यही सामान इनकी मौत का सामान बनने लगा है. और एक एक कर ये तमाम अय्याश आतंकी मारे जा रहे हैं।

अब तक 108 आतंकियों का सफाया

कश्मीर घाटी को आतंक से निजात दिलाने के लिए भारतीय फौज ने घाटी में सक्रिय 258 आतंकवादियों की एक लिस्ट तैयार की है। इनमें से ऑल आउट नाम के इस ऑपरेशन के तहत अब तक भारतीय सेना 108 आतंकवादियों का सफाया कर चुकी है।

इनमें आतंकी बुरहान वानी, सब्ज़ार अमहद, जुनैद मट्टू, बशीर लश्करी और अब अबु दुजाना। ये आतंक के वो चेहरे हैं, जिन्होंने घाटी को ख़ून से लाल कर रखा था।

Next Story
Top