Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

घाटी में CRPF की हेल्पलाइन ''मददगार'' शुरू

सीआरपीएफ के उपनिरीक्षक एम. दिनाकरन ने बताया कि यह हेल्पलाइन नंबर 14411 चौबीस घंटे काम करेगी।

घाटी में CRPF की हेल्पलाइन मददगार शुरू
X

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने शुक्रवार से जम्मू-कश्मीर में एक टॉल फ्री हेल्पलाइन 'मददगार' की शुरुआत की है।

इससे संकट की घड़ी में कश्मीरी लोगों की मदद की जा सकेगी एवं लोगों में सुरक्षा बलों के प्रति विश्वास को फिर से बहाल किया जा सकेगा।

सीआरपीएफ के उपनिरीक्षक एम. दिनाकरन ने बताया कि यह हेल्पलाइन नंबर 14411 चौबीस घंटे काम करेगी।

इससे लोगों को चिकित्सा, आपातकाल, प्राकृतिक व मानव निर्मित आपदाओं में भी मदद दी जाएगी।

उन्होंने कहा कि देश भर में मौजूद कश्मीरी नागरिकों के लिए 'मददगार' एक सेवा का जरिया है।

संकट में सहायता करने के अलावा हेल्पलाइन करियर काउंसिलिंग में मदद करेगी।

यह सीआरपीएफ की खेलकूद गतिविधियों व अर्धसैनिक बलों में शामिल होने के लिए काउंसिलिंग करेगी।

इसे भी पढ़ें- कश्मीर: 24 घंटे में 6 आतंकी हमले, 13 जवान घायल

सीआरपीएफ ने एक बयान में कहा कि यह नशीली दवाओं के पीड़ितों की काउंसिलिंग, पर्यटन संबंधी जरूरी सूचना खास तौर से वैष्णव देवी व अमरनाथ यात्रियों को देगी। यह महिला सुरक्षा के कॉल पर भी कार्रवाई करेगी।

यहां आंतरिक सुरक्षा के लिए सीआरपीएफ ही प्रमुख फोर्स

जम्मू-कश्मीर में जब 1989 में आतंकवाद का दौर शुरू हुआ है, तब से सीआरपीएफ लोगों की मदद के लिए आतंकवाद से मुकाबला कर रही है।

करीब सवा तीन लाख तादाद वाली सीआरपीएएफ की 47वीं बटालियन जम्मू-कश्मीर में तैनात है यानी करीब 52 हजार जवान तैनात है। साथ ही सीआरपीएफ कश्मीर में आतंरिक सुरक्षा के लिए प्रमुख फोर्स है।

लोगों को मिला विकल्प

खासकर कश्मीर में लोगों की आम शिकायत होती है कि वो जरूरत के वक्त मदद के लिए कई बार ना तो पुलिस के पास जा पाते हैं और ना ही सेना के पास।

ऐसे में अपनी बात सीधे किसी भी वक्त सीआरपीएफ के टॉल फ्री नंबर पर बता सकते हैं। जैसे ही सीआरपीएफ को शिकायत मिलेगी तो वो तुरंत कार्रवाई करेगी और लोगों को परेशानियों से छुटकारा दिलाएगी।

राज्य और लोगों के लिए सेतु का काम करेगी हेल्पलाइन

हेल्पलाइन का शुभारंभ जम्मू एवं कश्मीर के राज्यपाल एन.एन.वोहरा ने किया। सीआरपीएफ के मुताबिक ये हेल्पलाइन तभी पूरी तरह सफल हो पाएगी जब राज्य के विभिन्न विभाग मदद के लिए आगे आएं क्योंकि 'मददगार' हेल्पलाइन राज्य और लोगों के बीच एक पुल का काम करेगी।

वैसे जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव ने इससे संबधित विभागों को चिट्ठी भेज दी है। यकीनन ये प्रयास लोगों के बीच खोये हुए विश्वास को फिर से कायम करेगा और साथ ही सुरक्षाबलों का एक मानवीय चेहरा भी सामने लाएगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story