Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बारामुला: लश्कर के दो आतंकी गिरफ्तार, पाक उच्चायोग ने जारी किया था वीजा

जम्मू-कश्मीर पुलिस का कहना है कि कड़ी सुरक्षा के कारण घुसपैठ मुश्किल हो गई है इसलिए पड़ोसी देश वैध वीजा के जरिए आतंकी भेज रहा है।

बारामुला: लश्कर के दो आतंकी गिरफ्तार, पाक उच्चायोग ने जारी किया था वीजा
X

जम्मू-कश्मीर में गिरफ्तार लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकियों ने शनिवार को पूछताछ में बताया कि उन्हें दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग द्वारा वीजा जारी किया गया था। इन दोनों आतंकियों को पाकिस्तान में हमले का प्रशिक्षण मिला है।

जम्मू-कश्मीर पुलिस का कहना है कि कड़ी सुरक्षा के कारण घुसपैठ मुश्किल हो गई है इसलिए पड़ोसी देश वैध वीजा के जरिए आतंकी भेज रहा है। बारामुला पुलिस ने बताया, गिरफ्तार आतंकियों को पाकिस्तान उच्चायोग ने दिल्ली में वीजा दिया था।

यह बताना जरूरी है कि पिछले कुछ सालों से पुलिस ने ऐसे कई टेरर मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है जिसने युवाओं को पाकिस्तान में ट्रेनिंग और आतंकवाद से जुड़ने का लालच दिया है।

इसे भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर: सरकार ने 9730 लोगों के खिलाफ वापस लिया केस, 85 से ज्यादा लोगों की हुई थी मौत

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एस.पी.वैद्य ने कहा,सुरक्षा बलों द्वारा सुरक्षा कड़ी कर दिए जाने के बाद घुसपैठ मुश्किल हो गई है इसलिए हमारा पड़ोसी देश आतंकी गतिविधियों के लिए वैध वीजा का सहारा ले रहा है।

उल्लेखनीय है कि इन दोनों आतंकियों को सेना, सीआरपीएफ और पुलिस ने संयुक्त अभियान के तहत गिरफ्तार किया था।

आतंकी वारदात को देने वाले थे अंजाम

पुलिस प्रवक्ता ने बताया, लश्कर के आतंकी वाघा-अटारी सीमा से लौटे थे। इसके बाद वे औपचारिक रूप से कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में शामिल होने वाले थे, लेकिन इससे पहले ही उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।'

इसे भी पढ़ें- जम्मू कश्मीर: बर्फीले तूफान की चपेट में सेना की चौकी, 3 जवान शहीद

इन दोनों की पहचान अब्दुल मजीद भट और मोहम्मद अशरफ मीर के रूप में हुई है। इन दोनों ने दावा किया है कि घाटी में आतंकी हमले के लिए पाकिस्तान में ट्रेनिंग लेकर वैध वीजा मिला था।

प्रवक्ता ने बताया, उन्होंने बताया कि ट्रेनिंग कैम्प बर्मा टाउन के नजदीक है और हंजाला, अदनान और उमर का कूटनाम इस्तेमाल कर रहे आतंकी कमांडर इसका संचालन कर रहे हैं।

अन्य आतंकी जो युवाओं को प्रशिक्षण दे रहे हैं वे ओसामा, नवीद और हतफ कूटनाम का इस्तेमाल कर रहे हैं। इन दोनों ने पूछताछ में बताया कि उन्हें पाकिस्तानी लड़कों के साथ ट्रेनिंग दी गई है जिनमें से अधिकांश बलूचिस्तान प्रांत से हैं। इनमें 10 साल तक के बच्चे भी शामिल हैं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story