Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कश्मीर में पुलिस का खबरी हुआ करता था ट्रक ड्राइवर नेंगरू, बन चुका है पीओके में जैश का पोस्टर बॉय

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) का निवासी आशिक अहमद नेंगरू (Ashik Ahmed Nengru) पहले ट्रक ड्राइवर था। वह जम्मू-कश्मीर पुलिस (Jammu Kashmir Police) के लिए खबरी के तौर पर भी काम करता था। लेकिन आज उसका नाम खूंखार आतंकवादियों (Terrorist) की सूची में शामिल है। पंजाब में ड्रोन (Drone) से हथियार भेजने में भी उसका ही हाथ था।

कश्मीर में पुलिस का खबरी हुआ करता था ट्रक ड्राइवर नेंगरू, बन चुका है पीओके में जैश का पोस्टर बॉयTruck Driver Nengru was once Police informer, has now became Poster boy of Jaish in POK

पैसों के लालच में कुछ लोग इस कदर अंधे हो जाते हैं कि वह पैसों के लिए अपने देश के साथ भी गद्दारी करने के लिए तैयार हो जाते हैं। ऐसा ही जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के पुलवामा (Pulwama) निवासी आशिक अहमद नेंगरू (Ashik Ahmed Nengru) के साथ हुआ। ट्रक ड्राइवर नेंगरू कभी पुलिस का खबरी (Police Informer) हुआ करता था, आज पीओके (POK) में जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-E-Mohammed) का पोस्टर बॉय बन चुका है। नेंगरू का नाम सबसे खूंखार आतंकवादियों (Terrorist) में गिना जाता है।

आशिक अहमद नेंगरू की पुलवामा अलगाववादियों के बीच अच्छी पैठ थी। उनके जरिए वह हिजबुल (Hizbul) के संपर्क में आया। वहां से उसे पुलवामा में भारतीय सेना पर पत्थरबाजी का जिम्मा सौंपा गया। पत्थरबाजी और नारेबाजी जैसी भारत विरोधी गतिविधियों के बदले में उसे कुछ पैसा दिया जाता था। लेकिन उसका लालच बढ़ता गया और वह आईएसआई (ISI) के संपर्क में आ गया। जिसके कहने पर उसने हथियारों की तस्करी और आतंकवादियों की सहायता करना शुरू किया। बाद में नेंगरू जैश-ए-मोहम्मद में शामिल होकर पीओके चला गया।

नेंगूर पीओके से भारतीय सीमा में हथियार नशे के पदार्थ और पाकिस्तान में ट्रेन किए गए 40 से अधिक आतंकवादियों को ला चुका है। खुफीया एजेंसियों को मिली जानकारी के मुताबिक नेंगरू भारत में किसी बड़े हमले की योजना बना रहा है। आर्टिकल 370 हटने के बाद इस प्रकार की कई खुफीया जानकारी मिली हैं। नेंगरू ने पिछले महीने आईएसआई के कहने पर पंजाब में ड्रोन (Drone) के जरिए हथियार भेजे थे। नेंगरू ने जिन आतंकियों की भारतीय सीमा में घुसपैठ कराई थी, उन्हें दबोचने के लिए सुरक्षा एजेंसियों ने ऑपरेशन भी चलाया था।

खुफीया एजेंसियों से मिली जानकारी के अनुसार नेंगरू का भाई मोहम्मद अब्बास भी जैश का आतंकी था। कुछ सालों पहले सुरक्षा बलों ने एनकाउंटर में उसे मार गिराया था। पिछले वर्ष नेंगरू के भाई रियाद को भी तीन आतंकवादियों को कश्मीर में घुसपैठ कराने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। रियाद भी जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम करता था।

Next Story
Share it
Top