Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेना का बड़ा खुलासा: शोपियां में नागरिकों की मौत के दौरान गोलीबारी स्थल पर नहीं थे मेजर

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सेना के जिस अधिकारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है वो घटनास्थल पर मौजूद ही नहीं था।

सेना का बड़ा खुलासा: शोपियां में नागरिकों की मौत के दौरान गोलीबारी स्थल पर नहीं थे मेजर

दक्षिण कश्मीर के शोपियां में दो युवकों की मौत के बाद सेना पर एफआईआर मामले पर राजनीति तेज हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सेना के जिस अधिकारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है वो घटनास्थल पर मौजूद ही नहीं था।

सूत्रों ने बताया कि 27 जनवरी को 10 गढ़वाल राइफल्स के 40-50 सैनिकों का काफिला शोपियां के बालपुरा से गनापुरा के लिये निकला था। लेकिन केलर में पहले से ही पत्थरबाजी के कारण कुछ गाड़ियों ने गनापुरा का रूट लिया।

इसे भी पढ़ें- आज शाम साढ़े 3 घंटे तक रहेगा चंद्रग्रहण, ग्रहण खत्‍म होने के बाद जरूर करें ये काम

जम्मू कश्मीर पुलिस प्रमुख एस पी वैद ने कल कहा था कि शोपियां घटना में प्राथमिकी दर्ज कराना जांच की सिर्फ शुरूआत है और सेना के पक्ष को भी ध्यान में रखा जाएगा।

सेना का दावा है कि जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत को लेकर दर्ज एफआईआर में सेना के जिस मेजर का जिक्र किया गया है, वो घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे।

दरअसल, शोपियां में पथराव कर रही भीड़ पर सैनिकों की गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। सेना ने इस घटना की जांच शुरू कर दी है।

इसे भी पढ़ें- गोलीबारी में मौत को लेकर जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सेना के जवानों के खिलाफ दर्ज की FIR

सेना के मेजर के खिलाफ FIR दर्ज करने के मामले से केंद्र सरकार और बीजेपी ने पल्ला झाड़ लिया है। शोपियां में सेना के मेजर के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के सवाल पर केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि उनको इस पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं हैं।

हालांकि उन्होंने कश्मीर घाटी में सेना का खुलकर समर्थन जरूर किया। उन्होंने कहा कि घाटी में सेना में अच्छा काम कर रही है। हमें उनको प्रोत्साहित करना चाहिए।

Next Story
Top