Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

PoK और गिलगिट-बाल्टिस्तान पर पाक ने किया है अवैध कब्जा, कश्मीर हमारा है इसमें कोई संदेह नहीं : राजनाथ सिंह

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) आज सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लिए लद्दाख (ladakh) पहुंचे हैं। जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटने व लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश बनाने के बाद उनका यह पहला दौरा है।

PoK और गिलगिट-बाल्टिस्तान पर पाक ने किया है अवैध कब्जा, कश्मीर हमारा है इसमें कोई संदेह नहीं : राजनाथ सिंह

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) आज सुरक्षा हालात का जायजा लेने के लिए लद्दाख (ladakh) पहुंचे हैं। जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) से आर्टिकल 370 (Article 370) हटने व लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश बनाने के बाद उनका यह पहला दौरा है। यहां पर उन्होंने पाक-चीन से लगते बॉर्डर के वर्तमान हालात की जानकारी लिए।

डीआरडीओ के एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि पाकिस्तान आतंकवाद के जरिए भारत को अस्थिर करने की कोशिश कर रहा है तो भारत पाकिस्तान से कैसे बात कर सकता है।

कश्मीर हमारा रहा है इस बात पर इस देश में कभी शक शुबहा नही रहा है। सच्चाई यह है कि पीओके और गिलगिट-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान अवैध कब्जा बनाया हुआ है। पाकिस्तान को पीओके के नागरिकों के मानवाधिकारों के हनन पर ध्यान देना चाहिए।

पाकिस्तान का कश्मीर में कोई Locus Standi (हस्तक्षेप का अधिकार) नहीं है। जबकि गिलगिट-बाल्टिस्तान समेत पूरे पीओके पर उसने ग़ैर क़ानूनी क़ब्ज़ा जमाया हुआ है। हमारे देश की संसद ने फ़रवरी 1994 को एक सर्वसम्मत प्रस्ताव पारित किया जिसमें भारत की स्थिति पूरी तरह स्पष्ट कर दी गयी है।

राजनाथ सिंह ने आगे कहा कि मैं पाकिस्तान से पूछना चाहता हूं कि कश्मीर पाकिस्तान के पास था कब? और पाकिस्तान भी तो इसी भारत से निकल कर बना है। हम पाकिस्तान के वजूद का सम्मान करते हैं इसका अर्थ यह नहीं है कि वह कश्मीर को लेकर कोई लगातार बयानबाजी करता रहेगा।

वहीं राजनाथ सिंह ने लद्दाख में 'किसान जवान विज्ञान मेला' का भी उद्घाटन किया है। राजनाथ सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा कि DIHAR द्वारा आयोजित यह किसान जवान विज्ञान मेला लद्दाख में सामरिक पारिस्थितिकी तंत्र (Strategic Ecosystem) को मज़बूत करने की दिशा में एक बड़ा कदम है।


आज यहां लद्दाख़ के किसान आये हैं, देश की सुरक्षा में लगे जवान मौजूद हैं और इन दोनों को सहयोग करने वाला जो विज्ञान है उससे जुड़े वैज्ञानिक भी यहां मौजूद है। इस मेले से 'जय-जवान, जय-किसान, जय-विज्ञान और जय-अनुसंधान' थीम जुड़ी है।

Next Story
Top