Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू-कश्मीर: असली गुनहगारों को पकड़ने के लिए पत्थरबाजों के बीच भेष बदलकर घुसे पुलिसकर्मी

जम्मू कश्मीर पुलिस ने पथराव के पीछे के असली गुनाहगारों को गिरफ्तार करने के लिए ऐतिहासिक जामा मस्जिद क्षेत्र में पत्थरबाजों के बीच अपने लोगों को भेजने की नई रणनीति शुक्रवार को अपनाई।

जम्मू-कश्मीर: असली गुनहगारों को पकड़ने के लिए पत्थरबाजों के बीच भेष बदलकर घुसे पुलिसकर्मी

जम्मू कश्मीर पुलिस ने पथराव के पीछे के असली गुनाहगारों को गिरफ्तार करने के लिए ऐतिहासिक जामा मस्जिद क्षेत्र में पत्थरबाजों के बीच अपने लोगों को भेजने की नई रणनीति शुक्रवार को अपनाई।

जुमे की नमाज के बाद भीड़ ने पुलिस और सीआरपीएफ कर्मियों पर पथराव करना शुरु कर दिया लेकिन दूसरी ओर से कोई जवाबी कार्रवाई नहीं की गयी।

इसे ही पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: डीजीपी की नियुक्ति के संबंध में सरकार ने कोर्ट के फैसले में संशोधन का आग्रह किया

कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने न तो आंसूगैस के गोले दागे और न ही लाठीचार्ज किया। जब 100 से ज्यादा लोग हो गये और दो पुराने पत्थरबार भीड़ की अगुवाई करने लगे तब लोगों को तितर बितर करने के लिए पहला आंसू गैस का गोला दागा गया।

इस बीच, भीड़ में छिपे पुलिसकर्मियों ने इस प्रदर्शन की अगुवाई करने वाले दो पत्थरबाजों को पकड़ लिया और वे उन्हें वहां खड़े वाहन तक ले ले गये। उन दोनों को जब थाने ले जाया गया, तब इन पुलिसकर्मियों ने लोगों को डराने के लिए हाथ में खिलौने वाली बंदूक ले रखी थी।

इसे ही पढ़ें- 2019 लोकसभा चुनाव में भाजपा के खिलाफ 25 फीसदी राज्यों में गठबंधन की उम्मीद: चिदंबरम

इन सब चीजों से न केवल अगुवाई करने वाले पत्थबरबाज बल्कि उनका साथ दे रहे अन्य लोग भी भौंचक्के रह गये और उन्होंने जल्द ही अपना प्रदर्शन खत्म कर लिया। उन्हें पुलिस की रणनीति का भान ही नहीं था। वर्ष 2010 में भी यही रणनीति अपनायी गयी थी।

Next Story
Top