Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दहशत: पाकिस्तान की गोलीबारी से सीमा पर थमी जिंदगी, 100 गांव के लोगों ने घर छोड़ा

आसपास के गांवों में अपने पशुओं की देखरेख तथा चोरी की घटनाओं से अपने घरों को बचाने के लिए अब गिनती के लोग तथा पुलिसकर्मी ही यहां बचे हैं।

दहशत: पाकिस्तान की गोलीबारी से सीमा पर थमी जिंदगी, 100 गांव के लोगों ने घर छोड़ा

पाकिस्तानी सैनिकों की भारी गोलाबारी के कारण सीमावर्ती शहर अरनिया और सीमा से सटे तकरीबन 100 गांवों से 76,000 से अधिक ग्रामीण अपने घर छोड़कर चले गए हैं। लोगों ने अपना तथा अपने परिवार के लोगों की जान बचाने दहशत में ये कदम उठाया है।

अंतरराष्ट्रीय सीमा (आईबी) से पांच किलोमीटर की दूरी पर स्थित करीब 18,500 लोगों की आबादी वाले अरनिया शहर में अब वीरानी छायी है।

आसपास के गांवों में अपने पशुओं की देखरेख तथा चोरी की घटनाओं से अपने-अपने घरों को बचाने के लिए अब गिनती के लोग तथा पुलिसकर्मी ही यहां बचे हुए हैं।

इसे भी पढ़ें- VIDEO: पाकिस्तान में टीवी पर बहस के दौरान नेता ने आपा खोया, मंत्री को सरेआम थप्पड़ मारा

अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे इलाकों में जीवन थम-सा गया है क्योंकि गोलाबारी के चलते खेती, स्कूल, पशुपालन और हर उन चीजों में ठहराव आ गया है जिन पर सीमाई क्षेत्रों में रहने वाले ये लोग अपनी आजीविका चलाने के लिए आश्रित हैं।

अरनिया के लोग कर चुके हैं पलायन

जम्मू के अतिरिक्त जिलाधीश अरुण मन्हास ने बताया, अरनिया शहर खाली हो गया है क्योंकि यहां रहने वाली अधिकतर आबादी अब पलायन कर चुकी है।

वे या तो अपने रिश्तेदारों के यहां चले गए हैं या फिर उन्होंने सरकारी शिविरों में आसरा ले रखा है।मन्हास आम नागरिकों एवं पुलिस अधिकारियों के साथ राहत एवं बचाव कार्य की अगुवाई कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में आतंकियों ने किया ग्रेनाड हमला, एक मासूम समेत 10 लोग घायल

मन्हास ने कहा कि अरनिया एवं आरएस पुरा सेक्टर में 90 से अधिक गांव के निवासियों को पुलिस बल बुलेट प्रूफ वाहनों की मदद से वहां से निकाल रहे हैं या फिर वे खुद इलाका छोड़कर जा रहे हैं।

मन्हास ने बताया कि कई दिन से पाकिस्तान की ओर से भारी गोलाबारी के चलते 76,000 से अधिक लोग सीमाई इलाकों से पलायन कर गए हैं। लोगों को आश्रय देने के लिए कई शिविर स्थापित किए गए हैं।

Next Story
Top