Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पत्थरबाजों के लिए तैयार किया सीक्रेट हथियार

सेना व सुरक्षा बलों ने भीड़ को नियंत्रित करने के लिए एक नया गुप्त हथियार विकसित किया है।

पत्थरबाजों के लिए तैयार किया सीक्रेट हथियार

कश्मीर में पिछले कुछ समय से उत्तेजित भीड़ और भारतीय सेना व सुरक्षा बलों की लगातार भिड़ंत हो रही है। सुरक्षा बलों पर गुस्साई भीड़ द्वारा पत्थर फेंकने की घटनाओं में भी लगातार वृद्धि हो रही है।

कई बार सेना व सुरक्षा बलों के लिए भीड़ को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है। इससे निपटने के लिए सेना एक नया गुप्त हथियार विकसित कर रही है। इसका इस्तेमाल भीड़ को तितर-बितर करने में किया जाएगा।

भारत के अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट को जानकारी देते हुए बताया कि कश्मीर घाटी में भीड़ को हटाने के लिए और स्थिति को काबू में करने के लिए पेलेट गन की जगह अब रबर की गोलियों का इस्तेमाल करने के विकल्पों पर भी विचार किया जा रहा है।

रोहतगी ने कोर्ट में कहा कि रबर की गोलियां पेलेट गनों की तरह खतरनाक नहीं होतीं लेकिन इनका इस्तेमाल आखिरी विकल्प के तौर ही किया जाएगा।

आपको बतादें कि जम्मू और कश्मीर बार एसोसिएशन ने सेना द्वारा पेलेट गन के इस्तेमाल पर आपत्ति जताते हुए इन्हें प्रतिबंधित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। इस याचिका पर सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल ने सेना और पेलेट गन का बचाव किया हैं।

गौरतलब है कि जुलाई 2016 में हिज्बुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ के दौरान मौत हो गई थी। इसके बाद पूरी कश्मीर घाटी में विरोध प्रदर्शनों का एक सिलसिला शुरू हो गया था जो अब तक थमने का नाम नहीं ले रहा है।

Next Story
Top