Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू कश्मीर के इन 5 जिलों से हटी पाबंदियां, अभी भी इन इलाकों में हैं बंदिश

जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 निरस्त होने के बाद राज्य में लगी पाबंदियों धीरे धीरे खत्म होती जा रही है। पांच जिलों में लगी पाबंदियों को हटा दिया गया है और मोबाइल सेवा को शुरू कर दिया गया।

जम्मू कश्मीर के इन 5 जिलों से हटी पाबंदियां, अभी भी इन इलाकों में हैं बंदिश

जम्मू और कश्मीर में अनुच्छेद 370 निरस्त होने के बाद राज्य में लगी पाबंदियों धीरे धीरे खत्म होती जा रही है। पांच जिलों में लगी पाबंदियों को हटा दिया गया है और मोबाइल सेवा को शुरू कर दिया गया।

इन पांच जिलों में हटी पाबंदी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबक, राज्यपाल सत्य पाल मलिक ने बुधवार रात को पुंछ जिले और बनिहाल उप-मंडल को छोड़कर पूरे जम्मू क्षेत्र में मोबाइल फोन सेवा को शुरू करने का आदेश दे दिया है। अब पुरे इलाकों में सामान्य स्थिति है।

बता दें कि प्रशासन ने मोबाइल फोन राजौरी, किश्तवाड़, डोडा और रामबन जिले अधिकांश हिस्सों में शुरू कर दी है। हालांकि, जम्मू क्षेत्र में मोबाइल इंटरनेट सुविधा अभी भी निलंबित है। जम्मू में मोबाइल इंटरनेट सुविधा भी जल्द ही बहाल हो जाएगी।

5 अगस्त के बाद लगाई गईं पाबंदियां

बीती 5 अगस्त को केंद्र द्वारा जम्मू क्षेत्र के दस जिलों में से 5 में केंद्र की सेवाओं को पूरी तरह रद्द कर दिया गया था। जिसमें केंद्र की धारा 370 को हटाने और जम्मू-कश्मीर राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में बांटा गया। इन जिलों में पुंछ, राजौरी, किश्तवाड़, डोडा और रामबन शामिल थे।

वहीं दूसरी तरफ पीर पंजाल और चिनाब घाटी क्षेत्र के 5 प्रमुख शहरों में भी कर्फ्यू लगाया गया। धारा 144 लागू की गई है। इन सभी प्रतिबंधों को धीरे-धीरे हटाया जा रहा है।

सुप्रीम कोर्ट का आदेश

सीजेआई रंजन गोगोई ने बुधवार को आदेश दिया था कि सुप्रीम कोर्ट की पांच-जजों की बेंच अक्टूबर के पहले सप्ताह में धारा 370 के हनन और जम्मू-कश्मीर के विभाजन से संबंधित सभी मामलों की सुनवाई करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी को भी अपने बीमार सहयोगी सहकर्मी मोहम्मद यूसुफ तारिगामी से मिलने के लिए जम्मू-कश्मीर जाने की इजाजत दी, जबकि उन्होंने केंद्र के इस दावे को खारिज कर दिया कि यह राज्य में स्थिति को खतरे में कर सकता है।

Next Story
Top