Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

शोपियां मामला: सेना का दावा, घटना स्थल से 200 मीटर दूर थे मेजर

पुलिस ने गढ़वाल इकाई के 10 जवानों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

शोपियां मामला: सेना का दावा, घटना स्थल से 200 मीटर दूर थे मेजर

शोपियां में गोलीबारी में 2 लोगों के मारे जाने की घटना के बाद मंगलवार को सेना ने दावा किया कि गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत को लेकर दर्ज प्राथमिकी में सेना के जिस मेजर का जिक्र किया गया है, वह घटना स्थल पर मौजूद नहीं थे।

उन्होंने बताया कि सेना ने घटना की जांच शुरू की है। एक सूत्र ने कहा, मेजर उस समय घटनास्थल पर मौजूद नहीं थे। वह वहां से करीब 200 मीटर दूर थे। वह घटनास्थल के आसपास थे।

इसे भी पढ़ें- गोलीबारी में मौत को लेकर जम्मू-कश्मीर पुलिस ने सेना के जवानों के खिलाफ दर्ज की FIR

शोपियां में शनिवार को पथराव कर रही भीड़ पर सैनिकों की गोलीबारी में दो नागरिकों की मौत के बाद मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं।

जम्मू कश्मीर पुलिस प्रमुख एसपी वैद ने सोमवार को कहा था कि शोपियां घटना में प्राथमिकी दर्ज कराना जांच की सिर्फ शुरूआत है और सेना के पक्ष को भी ध्यान में रखा जाएगा।

इसे भी पढ़ें- कश्मीर: सुरक्षा बलों की गोलीबारी में दो की मौत से माहौल बिगड़ा, अलगाववादियों ने बुलाया कश्मीर बंद

पुलिस ने रविवार को सेना की गढ़वाल इकाई के 10 कर्मियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं 302, 307 के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी। प्राथमिकी में मेजर का भी नाम लिया गया है जो घटना के समय सैनिकों का नेतृत्व कर रहे थे।

अपनी हिफाजत के लिए सेना ने की फायरिंग

सूत्रों के मुताबिक, शोपियां में सेना के काफिले को करीब 250 लोगों ने घेरकर पत्थरबाजी शुरू कर दी थी। एक जेसीओ हालात का जायजा लेने नीचे उतरा, लेकिन पत्थर लगने से वो गिर पड़ा।

भीड़ लगातार उग्र होती जा रही थी, अपनी हिफाजत के लिए आर्मी पर्सनल्स ने हवा में फायरिंग की। जब भीड़ बहुत करीब आ गई और पत्थरबाजी करती रही, तब आर्मी ने गोलियां चलाईं। जिस जगह फायरिंग हुई, मेजर वहां से 200 मीटर की दूरी पर थे।

बता दें कि रविवार को श्रीनगर में एक आर्मी स्पोक्सपर्सन ने कहा था कि सेना ने तब गोली चलाई, जब भीड़ ने उनके एक जूनियर कमीशंड अफसर को मारने की कोशिश की और उसके हथियार छीन लिए।

Next Story
Top