Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

''सर्जिकल स्ट्राइक'' के बाद भारत की ''टैक्टिकल स्ट्राइक'', पाक को LOC क्रॉस करना पड़ा भारी

सेना के ‘घातक'' कमांडो का एक छोटा दल नियंत्रण रेखा पार कर करीब 200-300 मीटर अंदर तक गया और वहां एक पाकिस्तानी चौकी को निशाना बनाया।

भारतीय सेना के पांच कमांडो के एक दल ने जम्मू कश्मीर के पुंछ सेक्टर में नियंत्रण रेखा को पार करते हुए एक त्वरित एवं साहसिक ऑपरेशन में तीन पाकिस्तानी सैनिकों को ढेर कर दिया।

रावलकोट के रुख चाकरी सेक्टर में अंजाम दिए गए ‘टैक्टिकल स्ट्राइक' (रणनीतिक हमला) ने पिछले साल के लक्षित हमले (सर्जिकल स्ट्राइक) की यादें ताजा कर दीं। पाकिस्तानी सेना ने शनिवार को रजौरी के केरी सेक्टर में संघर्ष विराम का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की थी जिसमें एक मेजर सहित चार भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे।

सेना के इस ऑपरेशन को उस घटना के बदले के तौर पर देखा जा रहा है। सेना के सूत्रों ने बताया कि ‘घातक' कमांडो का एक छोटा दल नियंत्रण रेखा पार कर करीब 200-300 मीटर अंदर तक गया और वहां एक पाकिस्तानी चौकी को निशाना बनाया।

इसे भी पढ़ें- रिपोर्ट में खुलासा, 2017 में इतने कश्मीरी युवाओं ने थामा आतंकियों का हाथ

इस ऑपरेशन में तीन पाकिस्तानी सैनिक मारे गए और एक जख्मी हो गया। पाकिस्तान में भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव की उनकी पत्नी एवं मां से इस्लामाबाद में हुई मुलाकात के कुछ घंटों बाद इसे अंजाम दिया गया।

उन्होंने बताया कि यह अभियान कल शाम करीब छह बजे शुरू हुआ और टीम 45 मिनट के अंदर ही अपने शिविर में आ गयी। टीम के किसी सदस्य को कोई चोटें नहीं आयी हैं। सेना के स्थानीय कमांडर के निर्देश पर चलाए गए इस अभियान के काफी पहले से ही पाकिस्तानी सेना की अस्थायी चौकी पर गहन निगरानी रखी जा रही थी।

पाकिस्तानी सेना ने तीन सैनिकों के मारे जाने की पुष्टि की है, लेकिन जोर देकर कहा है कि वे बिना उकसावे के की गई फायरिंग में मारे गए और भारतीय सैनिकों ने एलओसी पार नहीं किया।

इसे भी पढ़ें- जम्मू-कश्मीर: पुलवामा में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़

सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान ने हॉटलाइन पर दोनों सेनाओं के बीच होने वाली साप्ताहिक बातचीत के दौरान भारतीय सैनिकों की ओर से किए गए हमले के मुद्दे को उठाया है।

उन्होंने बताया कि कल के ऑपरेशन की तुलना पिछले साल की सर्जिकल स्ट्राइक से नहीं की जा सकती, क्योंकि ‘सीमित लक्ष्य' के साथ एक छोटी टीम ने इस हमले को अंजाम दिया।

थलसेना इकाई के स्थानीय कमांडर के आदेश पर इस हमले को अंजाम दिया गया। सूत्रों ने बताया कि ऑपरेशन में मारे गए पाकिस्तानी सैनिक पाकिस्तानी सेना के बलूच रेंजिमेंट से थे और जिस अस्थायी चौकी को भारतीय सेना ने निशाना बनाया, उस इलाके को पाकिस्तान रूख चकरी सेक्टर कहता है।

Next Story
Top