Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू-कश्मीर: स्थानीय निकायों के पहले चरण के लिए सोमवार को होगा मतदान

जम्मू-कश्मीर में धमकियों, हिंसा और दो मुख्य पार्टियों-नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी के बहिष्कार के बावजूद स्थानीय निकाय चुनावों के प्रथम चरण के लिए सोमवार को मतदान होगा।

जम्मू-कश्मीर: स्थानीय निकायों के पहले चरण के लिए  सोमवार को होगा मतदान

जम्मू-कश्मीर में स्थानीय निकाय चुनावों के प्रथम चरण के लिए सोमवार को मतदान होगा। हालांकि, धमकियों, हिंसा और राज्य की दो मुख्य पार्टियों-नेशनल कांफ्रेंस और पीडीपी के बहिष्कार का असर समूची चुनावी प्रक्रिया पर देखने को मिल रहा है।

प्रथम चरण के मतदान के लिए चुनाव प्रचार शनिवार को खत्म हो गया। निकाय चुनावों के लिए कोई चुनावी रैली नहीं हुई है। घाटी के ज्यादातर हिस्सों में घर-घर जाकर चुनाव प्रचार भी नहीं किया गया।

उम्मीदवारों के नामों के साथ समूची प्रक्रिया गोपनीय नजर आई। यहां तक कि उम्मीदवारों के राजनीतिक दलों से संबंधों का भी खुलासा नहीं किया गया।

संविधान के अनुच्छेद 35ए को उच्चतम न्यायालय में विधिक चुनौती दिए जाने के चलते जम्मू कश्मीर की दो मुख्य पार्टियां- नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी के साथ-साथ माकपा भी इन चुनावों से दूर रही है।

इसे भी पढ़ें- विधानसभा चुनाव 2018: 12 नवंबर से मोदी-राहुल की अग्नि परीक्षा शुरू- 11 दिसंबर को आएंगे नतीजे

नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी ने संवैधानिक प्रावधान पर केंद्र से अपना रुख शीर्ष न्यायालय में स्पष्ट करने को कहा है। अलगावावादियों ने चुनाव के बहिष्कार का आह्वान किया है, आतंकवादियों ने इन चुनावों में भाग लेने वाले लोगों को निशाना बनाने की धमकी दी है।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि कश्मीर में मौजूदा स्थिति उम्मीदवारों को खुल कर चुनाव प्रचार करने की इजाजत नहीं देती है क्योंकि उनकी जान को खतरा है।

अधिकारी ने बताया कि उम्मीदवारों को सुरक्षा मुहैया की गई है और उनमें से ज्यादातर को सुरक्षित स्थानों पर ले जाया गया है। उन्हें न सिर्फ आतंकवादियों से खतरा है बल्कि भीड़ से भी खतरा है। उन्होंने कहा कि ज्यादातर उम्मीदवारों की पहचान और अन्य ब्यौरे गुप्त रखे गए हैं।

इसे भी पढ़ें- शरद पवार नहीं लड़ेंगे 2019 का लोकसभा चुनाव, NCP ने की घोषणा

अधिकारी ने बताया कि सुगम, निष्पक्ष और स्वतंत्र मतदान कराने के लिए सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं। केंद्र ने केंद्रीय अर्द्धसैनिक बलों की 400 अतिरिक्त कंपनियां मुहैया की है। हम सुगम, स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए एक सुरक्षित माहौल मुहैया करने की अपनी सर्वश्रेष्ठ कोशिश कर रहे हैं।

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि आप जानते हैं कि स्थिति क्या है। हमारे उम्मीदवारों के लिए चुनाव प्रचार करना संभव कैसे है? शुक्रवार को एक राजनीतिक दल के दो कार्यकर्ताओं की दिनदहाड़े हत्या कर दी गई। ऐसी स्थिति में जब सुरक्षा की भावना नहीं है, हम वोट मांगने कैसे जा सकते हैं।राज्य में चुनाव के लिए माहौल सौहार्दपूर्ण नहीं है। लेकिन इसे केंद्र ने हम पर थोप दिया।

उन्होंने कहा कि पूरी प्रक्रिया पर प्रशासन के गोपनीयता बरतने का असर चुनाव प्रक्रिया पर देखने को मिल रहा है। प्रथम चरण के तहत सोमवार को 12 जिलों में 30 नगर निकायों के 422 वार्डों में चुनाव होंगे।

इन 422 वार्डों में 78 वार्डों में कोई मुकाबला नहीं है जिनमें से 69 कश्मीर में हैं जबकि नौ जम्मू में हैं। राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी शालीन काबरा ने बताया कि प्रथम चरण के लिए 1473 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल किया है।

Next Story
Top