Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जम्मू कश्मीर: आतंकी हमलों में अब तक गई इतने लोगों की जानें, आंकड़े देख कांप जाएगी रूह

जम्मू कश्मीर में इस साल 30 नवंबर तक 813 उग्रवादी घटनाएं हुई हैं।

जम्मू कश्मीर: आतंकी हमलों में अब तक गई इतने लोगों की जानें, आंकड़े देख कांप जाएगी रूह
X

सरकार ने लोकसभा में मंगलवार को बताया कि नोटबंदी के बाद देश में सुरक्षा की स्थिति सुधरी है और जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में भारी कमी देखने को मिली है।

इस साल 30 नवंबर तक 813 उग्रवादी घटनाएं हुई हैं जिनमें 170 नागरिकों और सुरक्षा बल के 75 जवानों की मौत हुई है। इन घटनाओं में 111 उग्रवादी भी मारे गए हैं जबकि 1712 उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया है।

केंद्र सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में बताया कि इस साल 14 दिसंबर तक जम्मू-कश्मीर में हुई आतंकी घटनाओं में लगभग 318 लोग मारे गए हैं जबकि 203 आतंकियों को मौत के घाट उतारा गया है। मृतकों में सुरक्षा बल के 75 जवान और 40 नागरिक भी शामिल हैं।

गृहराज्य मंत्री हंसराज अहीर ने लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान बताया कि पूर्वोत्तर में उग्रवादी घटनाओं में 97 लोग मारे गए हैं। इनमें 51 उग्रवादी और सुरक्षा बल के 12 जवान शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जम्मू-कश्मीर में इस साल हुई आतंकी वारदातों में 321 लोग घायल हुए हैं जबकि 91 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया है।

उन्होंने वाम चरमपंथ से प्रभावित इलाकों का हवाला देते हुए कहा कि इस साल 30 नवंबर तक 813 उग्रवादी घटनाएं हुई हैं जिनमें 170 नागरिकों और सुरक्षा बल के 75 जवानों की मौत हुई है। इन घटनाओं में 111 उग्रवादी भी मारे गए हैं जबकि 1712 उग्रवादियों को गिरफ्तार किया गया है।

तीन वर्षों में मारे गए अर्धसैनिक बल के 190 जवान

सरकार ने मंगलवार को संसद में बताया कि बीते तीन वर्षों के दौरान विभिन्न कार्रवाइयों में ड्यूटी पर तैनात अर्धसैनिक बल के कुल 190 जवान मारे गए हैं। इनमें 99 जवान सीआरपीएफ के शामिल हैं।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में बताया कि पिछले तीन वर्षों में मारे गए अर्धसैनिक बल के जवानों में 45 बीएसएफ के, 41 असम राइफल के, चार एसएसबी के और एक आईटीबीपी का जवान शामिल है। उन्होंने बताया कि इन तीन वर्षों के दौरान सुरक्षा बलों में 20 अनुकंपा नियुक्तियां भी दर्ज की गई हैं।

नोटबंदी के बाद पत्थरबाजी में आई कमी

सरकार ने लोकसभा में मंगलवार को बताया कि नोटबंदी के बाद देश में सुरक्षा की स्थिति सुधरी है और जम्मू-कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं में भारी कमी देखने को मिली है।

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने लोकसभा में एक लिखित सवाल के जवाब में बताया कि नोटबंदी के बाद नक्सल प्रभावित इलाकों में माओवादियों और उनके समर्थकों से 90 लाख रुपए जब्त किए गए हैं।

इसके साथ ही 8 नवंबर 2016 से 29 नवंबर 2016 के बीच 564 नक्सलियों और उनके समर्थकों ने आत्मसमर्पण किया। उन्होंने बताया कि 01 नवंबर 2016 से 31 अक्तूबर 2017 के दौरान जम्मू-कश्मीर में 341 आतंकी वारदातें हुईं।

जबकि इससे पिछले साल इसी दौरान 311 आतंकी घटनाएं दर्ज की गईं। इसी प्रकार 01 नवंबर 2016 से 31 अक्तूबर 2017 के दौरान 857 नक्सली घटनाएं हुईं। हालांकि ठीक पिछले साल इसी दौरान 1078 नक्सली घटनाएं दर्ज की गई थीं।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story