Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सेना की मदद से 28 कश्मीरियों ने पास की IIT

जम्मू-कश्मीर के स्टूडेंट्स को कोचिंग देने के लिए सेना चलाती है ''कश्मीर सुपर 40''

सेना की मदद से 28 कश्मीरियों ने पास की IIT

सेना की 'कश्मीर सुपर 40' पहल ने आईआईटी एंट्रेंस में पिछले सभी रेकॉर्ड तोड़ दिए हैं। इस बार 26 लड़कों और 2 लड़कियों ने आईआईटीजेईई मेन परीक्षा में सफलता हासिल की है।

इंजिनियरिंग एंट्रेंस की खातिर जम्मू-कश्मीर के स्टूडेंट्स को कोचिंग देने के लिए सेना ने 'कश्मीर सुपर 40' मुहिम चला रखी है।
इस बार 78% की सफलता दर हासिल करने से सेना इस कोचिंग को देश के सर्वश्रेष्ठ आईआईटी कोचिंग सेंटरों के बराबर मान रही है। सफल स्टूडेंट्स में अशांत रहे दक्षिण कश्मीर के 9, उत्तर कश्मीर से 10, करगिल/लद्दाख से 7 और जम्मू क्षेत्र से 2 युवा हैं।
सेना अपग्रेड करेगी कोचिंग
यह पहला बैच था, जिसमें कश्मीर घाटी की 5 लड़कियों को दिल्ली में कोचिंग दी गई थी, जिनमें से दो ने क्वॉलिफाई किया है।
कोचिंग कार्यक्रम को सेना अब 5 लड़कियों सहित 50 स्टूडेंट्स के साथ तुरंत अपग्रेड करने जा रही है। जुलाई 2016 के बाद से कश्मीर घाटी में अशांति की वजह से कई चुनौतियों के बावजूद सेना ने निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार कोचिंग को अंजाम दिया था।
टेस्ट और साक्षात्कार से होता चयन
सेना का कहना है कि आईआईटी के अलावा, 'कश्मीर सुपर 40' के स्टूडेंट्स ने पूरे देश में अन्य इंजिनियरिंग कॉलेज परीक्षाओं में भी बढ़िया प्रदर्शन किया है।
इस फ्लैगशिप स्कीम के तहत स्टूडेंट्स का चुनाव अप्रैल-मई में पूरे राज्य में एंट्रेंस और इंटरव्यू के माध्यम से किया जाता है। श्रीनगर में सेना की लोकेशन पर छात्रों को ठहरा कर मुफ्त में कोचिंग कराई जाती है।
छात्रों के चुनाव में यह सावधानियां
सेना का मानना है कि इस साल के बेहतर नतीजे के पीछे कैंडिडेट्स को सावधानीपूर्वक चुनना, अच्छी कोचिंग, पर्सनल गाइडेंस और रहने-पढ़ने का अनुकूल माहौल देना वजह है।
पेट्रोनेट एलएनजी की ओर से इसे प्रायोजित किया जाता है। 2013 के बाद से पेट्रोनेट एलएनजी और सेंटर फॉर सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी ऐंड लर्निंग कोचिंग में सेना के सहयोगी हैं। सेना का कहना है कि प्रतिभाशाली होने के बावजूद मौकों से वंचित रह जाने वाले छात्रों के लिए करियर में सफलता हासिल करने के लिए यह कोचिंग उचित मंच उपलब्ध कराती है।
Next Story
Top