Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पहले अश्लील वीडियो भेजा, फिर करने लगे ब्लैकमेल, महिला की एसपी से फरियाद- बचाओ मेरे.....

शिकायत में महिला ने उसके पति के मोबाइल पर गिरोह द्वारा पहले अश्लील वीडियो व सामग्री भेजने व उन वीडियो को इंटरनेट पर डालने का आरोप लगाया।

पहले अश्लील वीडियो भेजा, फिर करने लगे ब्लैकमेल, महिला की एसपी से फरियाद- बचाओ मेरे.....

शहर में चल रहे सेक्स रैकेट को पकड़ने के लिए गांव पहरावर की एक महिला ने पुलिस अधीक्षक को शिकायत दी है। शिकायत में महिला ने उसके पति के मोबाइल पर गिरोह द्वारा पहले अश्लील वीडियो व सामग्री भेजने व उन वीडियो को इंटरनेट पर डालने का आरोप लगाते हुए इसकी जांच साइबर सैल के करवाने की मांग की है, ताकि इसके पीछे की सच्चाई का पर्दाफाश हो सके।

महिला ने आरोप लगाते हुए बताया कि गिरोह द्वारा पहले लोगों के फोन पर अश्लील वीडियो भेज कर उन्हें गुमराह किया जाता है, फिर उन्हें ब्लैकमेल किया जाता है। उनकी मांग पूरी ना होने पर उन्हें झूठे मुकदमों में फंसा दिया जाता है।

उनके पति पर पहले भी इसी तरह का एक मुकदमा दर्ज करवाया जा चुका है। शिकायती पत्र में महिला ने बताया है कि गिरोह ने पहले भी कई झूठे मुकदमे दर्ज करवाए हैं। कहीं ऐसा न हो कि उसके पति को भी ऐसे ही मामले में दोबारा फंसा दिया जाए।

इसे भी पढ़ें- शर्मनाक: प्रेमी युगल को मंदिर से उठाकर जंगल ले गए दरिंदे, पेड़ से बांधकर 10 ने किया गैंगरेप

ये है मामला-

महिला का कहना है कि शहर में कोई गिरोह है, जो सैक्स रेकेट चला रहा है। गिरोह लोगाें के मोबाइल पर व्हाटस-एप के जरिए अश्लील विडियो सामग्री भेजकर समाज में लोगों का पथभ्रष्ट कर आपराधिक गतिविधियों को बढ़ावा दे रहा है। महिला ने आरोप लगाते हुए कहा कि गिरोह इन विडियो को इंटरनेट पर डालकर गलत तरीके से पैसे भी कमा रहा है।

शिकायतकर्ता ने बताया कि मई 2016 में ऐसी ही अश्लील सामग्री उनके पति के व्हाट्स-एप पर भी आई थी, उसके बाद उन्हें ब्लैकमेल करने की कोशिश की गई थी, जिसका विरोध करने पर उनके खिलाफ जुलाई 2016 में झूठा मुकदमा दर्ज करवा दिया गया, जो न्यायालय में अभी भी विचाराधीन है।

उनके पति के मोबाइल व सिम कार्ड की एफएसएल रिपोर्ट में वे निर्दाेष पाए गए हैं। उनके साथ या और किसी के साथ ऐसा ना हो इसलिए शिकायतकर्ता ने इसकी जांच साइबर सैल से करवाने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें- CM मनोहर लाल खट्टर की अल्पसंख्यकों को नसीहत, कहा सड़क की बजाय ईदगाह या मस्जिद में पढ़े नमाज

एक और हो चुका है मामला दर्ज-

शिकायतकर्ता ने बताया कि इससे पहले भी एक और मामला गिरोह के खिलाफ दर्ज हो चुका है। उन्होंने बताया कि जनवरी 2018 में एक दिव्यांग लड़की के पास भी गिरोह द्वारा अश्लील वीडियो सामग्री भेजी गई थी, लेकिन शिकायत के बावजूद भी पुलिस ने कोई कार्रवाई अमल में नहीं लाई।

जिसमें पीड़ित ने पुलिस की आरोपितों से मिलीभगत का आरोप भी लगाया है। पीड़ित के अनुसार अाज तक पुलिस ने किसी भी आरोपित को गिरफ्तार नहीं किया है।

शिकायतकर्ता ने पुलिस अधीक्षक को सौंपी अपनी शिकायत में मामले की गहनता से जांच कर कार्रवाई करने की गुहार लगाई है। पीड़िता ने साइबर सैल से इसकी जांच करवाने की मांग की है, ताकि जल्द से जल्द इस गिरोह का पर्दाफाश हो सके।

Next Story
Share it
Top