Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

किसान को मोबाइल पर देंगे जानकारी मंडी में कब लानी है फसल

कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए हरियाणा सरकार किसानाें को उनके मोबाइल पर सूचना देगी कि उन्हें मंडी में कब फसल लेकर आनी है।

Coronavirus : हरियाणा सरकार ने किसानों को दिया तोहफा, खरीदी जाएगी पूरी फसल, ये लाभ मिलेंगेManohar government's master stroke, farmers waived two and a half thousand crores

चंडीगढ। हरियाणा में गेहूं और सरसों खरीद की तैयारियां तेज हो गई हैं और अब तक प्रदेश में गेहूं के लिए 5.1 लाख किसानों ने मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करा दिया है। जिन किसानों ने फसलों के लिए आवेदन किया है, सभी के पास गेहूं खरीद से ठीक एक या दो दिन पहले मोबाइल से संदेश भेजा जाएगा। यही नहीं फोन कर सूचना भी दी जाएगी कि वे किस दिन अपनी फसल मंडी में ला सकते हैं। कोरोना संक्रमण को देखते हुए यह फैसला किया गया है।

हरियाणा कृषि विपणन बोर्ड के सीए जे गणेशन ने बताया कि हाल ही में सेवानिवृत हुए अपने 100 कर्मचारियों को डयूटी पर बुलाने का निर्णय लिया है। ताकि खरीद प्रक्रिया में लाभ मिल सके। यही नहीं बोर्ड ने सिंचाई और पीडब्ल्यूडी विभाग के 1000-1000 कर्मचारियों की सूची बनाकर संबंधित खरीद एजेंसियों को सौंप दी है, ये सब खरीद प्रक्रिया में मदद करेंगे। कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल के अनुसार गेहूं खरीद प्रक्रिया में किसानों को कोई दिक्कत नहीं आने दी जाएगी।

विभागीय अधिकारियों के अनुसार प्रदेश में 23.87 लाख हेक्टेयर में गेहूं की बिजाई की गई है, इसमें कुल उत्पादन 115.55 लाख टन होने की उम्मीद है। इसमें से अनाज मंडियों में करीब 95 लाख टन गेहूं की आवक हो सकती है। जबकि 19 हजार हेक्टेयर में जौ की फसल है, इसमें 70 हजार एमटी उत्पादन हो सकता है, 0.45 लाख हेक्टेयर में चना है, इससे 0.51 लाख एमटी उत्पादन हो सकता है। राज्य खरीद एजेंसियों को 85 लाख और एफसीआई को 10 लाख टन गेहूं खरीद के लिए इंतजाम करने होंगे।

गेहूं की फसल के लिए गांवों में ही खरीद की व्यवस्था के लिए करीब 10 हजार लोगों की मैनपॉवर की आवश्यकता होगी। शेल्टर होम में ठहरे करीब 16 हजार श्रमिकों में से हजार से ज्यादा श्रमिक अपने रोजगार की तरफ वापस लोट रहे है। इससे गेहूं की कटाई में किसानों को लाभ मिलेगा।

Next Story
Top