Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लड़की के नाबालिग होने की शिकायत पर बाल संरक्षण टीम ने रुकवाई बारात, लौटी बारात

जिला महिला एवं बाल सरंक्षण अधिकारी की टीम ने गांव मल्हा माजरा में नाबालिग लड़की की शादी रुकवा दी। टीम ने लड़की की बारात आने के बाद शादी को रुकवा दिया।

लड़कियों को भूलकर भी इन कारणों से नही करना चाहिए शादी का फैसलाप्रतीकात्मक फोटो

जिला महिला एवं बाल सरंक्षण अधिकारी की टीम ने गांव मल्हा माजरा में नाबालिग लड़की की शादी रुकवा दी। टीम ने लड़की की बारात आने के बाद शादी को रुकवा दिया। जिला महिला एवं बाल संरक्षण अधिकारी को नाबालिग की शादी कराए जाने की जानकारी मिली थी।

लड़की के परिजनों ने बेटी की शादी बालिग होने पर करने का आश्वासन दिया है। जिला महिला एवं बाल संरक्षण अधिकारी भानू गौड़ को सूचना मिली कि थी कि मल्हा माजरा गांव में नाबालिग की शादी कराई जा रही है।

जिस पर टीम वहां पहुंच गई। टीम ने उसकी शादी को रुकवा दिया। साथ ही परिजनों ने इस संबंध में लिखित में लिया कि उसके बालिग होने के बाद ही शादी की जाएगी। लड़की की बारात दिल्ली के गांव रावता क्षेत्र से आई थी। जिसके बाद बारात को वापस भेज दिया गया।

बाल विवाह की मिली थी सूचना : गौड़

जिला महिला एवं बाल संरक्षण अधिकारी भानू गौड़ ने बताया कि नाबालिग की शादी किए जाने की सूचना मिली थी। मौके पर जांच के बाद लड़की की आयु कम मिली लड़की की उम्र 17 साल 3 महीने थी। जिस पर उसकी शादी को रुकवा दिया है।

परिजनों से लिखित में लिया गया है कि वह बालिग होने के बाद ही लड़की की शादी करें। नाबालिग की शादी करना कानूनन ही जुर्म नहीं है, बल्कि इससे उनकी जिंदगी भी खराब हो जाती है। नाबालिग के शादी के लिए परिपक्व नहीं होने से उसके बीमारियों की चपेट में आने का भय रहता है।

Next Story
Top