Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

धोखाधड़ी : भारतीय स्टेट बैंक को लगाई करीब 46.50 लाख की चपत, महिला सहित दो नामजद

कैथल शहर पुलिस ने बैंक से ऋण के रूप में ली गई 55.50 लाख की राशि न लौटाने तथा जब्त किया गया चावल खुर्द-बुर्द करने के आरोप में एक महिला सहित दो व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है।

धोखाधड़ी : भारतीय स्टेट बैंक को लगाई करीब 46.50 लाख की चपत, महिला सहित दो नामजदसांकेतिक फोटो

कैथल शहर पुलिस ने बैंक से ऋण के रूप में ली गई 55.50 लाख की राशि न लौटाने तथा जब्त किया गया चावल खुर्द-बुर्द करने के आरोप में एक महिला सहित दो व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। मामला भारतीय स्टेट बैं के मुख्य प्रबंधक जगदीश कुमार गुप्ता की शिकायत पर दर्ज किया गया है।

जगदीश कुमार गुप्ता ने शहर पुलिस को दी शिकायत में आरोप लगाया है कि मैसर्ज दीपक राइस मिल करनाल बाईपास जींद रोड कैथल की अथोराइज्ड रिप्रेजेंटिव मोनिका व प्रोपराइटर शिव गुप्ता निवासी कैथल ने भारतीय स्टेट बैंक से 55.50 लाख का ऋण लिया था।

निर्धारित समय पर ऋण की राशि न लौटाने पर बैँक ने राइस मिल की मशीनरी व चावल गारंटी के तौर पर जब्त कर लिया। बाद में उस चावल को बैंक द्वारा एक कमेटी गठित करने के बाद बोली के माध्यम से 55.50 लाख रुपए में बेच दिया। उसने आरोप लगाया कि आरोपियों ने मिलीभगत करते हुए बैंक को मात्र 9 लाख रुपए जमा करवाए और चावल का स्टॉक पूरा ही गायब कर दिया।

यह सब आरोपियों ने अन्य कुछ लोगों के साथ मिलीभगत करते हुए अंजाम दिया। बोली करवाने के लिए जिला मजिस्ट्रेट, हैफेड, कैथल ने एक समिति का गठन किया था, जिसमें हैफेड, भारतीय स्टेट बैंक के प्रतिनिधि भी शामिल थे। बोली दीपक राइस मिल्स द्वारा 55.50 लाख रुपए में छुड़ाई गई और उस द्वारा ही चावल उठाया जाना था।

लेकिन अथोराइज्ड रिप्रेजेंटिव मोनिका व प्रोपराइटर शिव गुप्ता निवासी कैथल एवं अन्य ने एक-दूसरे के साथ मिलकर बैंक को मात्र 9 लाख रुपए का भुगतान करने के बाद पूरे स्टॉक और चावल को उठा लिया। प्रबंधक ने आरोप लगाया है कि आरोपियों द्वारा 46.50 लाख रुपए अभी भी बैंक का बकाया देना है।

आरोपियों ने यह स्टॉक चोरी से बिना बैंक को जानकारी दिए उठाया है। शहर थाना के एसआई जांच अधिकारी सुरेश कुमार ने बताया कि पुलिस ने बैंक प्रबंधक की शिकायत पर मोनिका व शिव गुप्ता निवासी कैथल के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। गौरतलब है कि इससे पूर्व भी कैथल में इस तरह से धोखाधड़ी करने के कई मामले सामने आ चुके हैं।

Next Story
Top