Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Yamunanagar : पुलिस की दबिश देखकर बदमाश ने मकान से लगाई छलांग, दोनों पांव में हुआ फैक्चर

यमुनानगर जिले के गांव बाल छप्पर की सरपंच के पति की गोलियां मारकर हत्या के मामले में सीआईए वन के हाथ सफलता लगी है। सीआईए ने पंजाब से गांव बाल छप्पर निवासी सुखविंद्र उर्फ सुखी की गिरफ्तारी की है।

Yamunanagar : पुलिस की दबिश देखकर बदमाश ने मकान से लगाई छलांग, दोनों पांव में हुआ फैक्चर
X
यमुनानगर में महिला सरपंच के पति की हत्या मामले गिरफ्तार किया गया आरोपित।

हरिभूमि न्यूज. यमुनानगर

दस दिन पहले गांव बालछप्पर की महिला सरपंच के पति पर ताबड़तोड़ गोलियां चलाकर हत्या(Murder) करने के मामले में फरार चल रहे एक आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इस दौरान पुलिस की दबिश को देखकर आरोपित मकान की पहली मंजिल से नीचे कूद गया। जिससे उसके दोनों पांव में फैक्चर हो गया। बताया गया है कि आरोपित पंजाब(Punjab) के मोरिंडा कस्बे में छिपा हुआ था। मामले में चार आरोपित अभी फरार हैं।

मामले में जांच कर रहे पुलिस की अपराध अन्वेषण शाखा वन (सीआईए) के प्रभारी राकेश कुमार मटोरिया ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी कि बालछप्पर की महिला सरपंच के पति रशपाल (45) की हत्या मामले में फरार चल रहा एक आरोपित सुखविंद्र सिंह इस समय पंजाब के मोरिंडा कस्बे में किसी के यहां ठहरा हुआ है। सूचना मिलते ही उन्होंने सब इंस्पेक्टर राजेश राणा के नेतृत्व में टीम का गठन कर आरोपित को गिरफ्तार करने के लिए भेजा।

टीम ने जैसे ही मोरिंडा में जाकर उसके संभावित ठिकाने पर दबिश दी तो आरोपित सुखविंद्र मकान की पहली मंजिल से नीचे कूद गया। जिससे उसके दोनों पांव में फैक्चर हो गया। पुलिस की टीम ने आरोपित को तुरंत गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को पुलिस ने गिरफ्तार कर रिमांड पर ले लिया। मामले में अभी मुख्य आरोपित विरेंद्र कुमार समेत चार आरोपित फरार चल रहे हैं। जिन्हें गिरफ्तार करने के लिए उनके संभावित ठिकानों पर दबिश दी जा रही है।

ये था मामला

गत 22 मई को सुबह नौ बजे के करीब गांव बालछप्पर निवासी महिला सरपंच का पति रशपाल सिंह अपने खेतों में गया हुआ था। इस दौरान उसके पास सुखविंद्र व विरेंद्र अपने अन्य साथियों को लेकर पहुंच गए। इससे पहले रशपाल सिंह कुछ समझ पाता आरोपितों ने रशपाल पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दी। करीब नौ गोलियां रशपाल की छाती व पेट समेत शरीर के अन्य हिस्सों में लगने से उसकी मौत हो गई। पुलिस ने उस समय मृतक के परिजनों की शिकायत पर आरोपित सुखविंद्र व विरेंद्र को नामजद करते हुए तीन अन्य के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कर लिया था। मामले में आरोपित फरार हो गए थे।


Next Story