Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

गुरुग्राम में जज की पत्नी और बेटे की हत्या करने वाले सुरक्षाकर्मी दोषी करार, जानें क्या था पूरा मामला

गुरुग्राम में जज ने कहा कि गवाहों और सीसीटीवी के फुटेज देखने से यह साफ पता लगता है कि दोषी महिपाल ने सबूतों के साथ फेरबदल करने की कोशिश की थी, जिसे कानून में एक गंभीर क्राइम की श्रेणी में रखा जाता है।

गुड़गांव में जज की पत्नी और बेटे की हत्या करने वाला सुरक्षाकर्मी चौदह महीने के बाद दोषी करार, जानें कब सुनाया जाएगा फैसला
X
गुड़गांव में जज की पत्नी और बेटे की हत्या करने वाला सुरक्षाकर्मी चौदह महीने के बाद दोषी करार

गुड़गांव जिला एवं सत्र न्यायालाय सुधीर परमार की कोर्ट ने जज की पत्नी और बेटे के हत्या के जुर्म में उनके सुरक्षाकर्मी के खिलाफ अपना फैसला सुना दिया है। जिसमें उन्होंने उस सुरक्षाकर्मी को दोषी करार दिया है। बता दें कि डिफेंस की तरफ से कोर्ट में यह दलील दी गई थी कि सुरक्षाकर्मी के साथ धक्कामुक्की के क्रम में जज के बेटे ने सुरक्षाकर्मी महिपाल से बंदूक छीन ली थी। जिसमें महिपाल से बंदूक छीनने के क्रम में गलती से गोली चल गई थी।

क्या कहा जज ने

जज ने डिफेंस के तरफ से दी गई दलील को मानने से साफ इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि अगर वो निर्दोष था तो उसने सबूतों को मिटाने का प्रयास क्यों किया था। गवाहों और सीसीटीवी के फुटेज देखने से यह साफ पता लगता है कि दोषी महिपाल ने सबूतों के साथ फेरबदल करने की कोशिश की थी जिसे कानून में एक गंभीर क्राइम की श्रेणी में रखा जाता है।

कितने गवाहों को किया गया पेश

बता दें कि इस केस में 81 गवाहों को पेश किया गया था जिसमें से 64 की गवाही 2019 के दिसंबर तक कोर्ट ने सुन ली थी। इन गवाहों में 2 चश्मदीद गवाह और 3 न्यायाधीश भी शामिल थे।

2018 में तैयार किया गया था चलान

जांच के बाद हरियाणा पुलिस के द्वारा 15 दिसंबर 2018 को चलान तैयार किया गया था जिसे 27 दिसंबर को कोर्ट में पेश कर दिया गया था। जिसके बाद कोर्ट ने 9 जनवरी को महिपाल पर मर्डर के चार्ज लगाए थे। बता दें कि लगभग 14 महीनों के बाद इस केस का फैसला सुनाया गया जिसमें महिपाल को दोषी माना गया है। इसके साथ ही कोर्ट आज शुक्रवार को दोनों पक्षों के वकीलों की दलीलें सुनेगी।

Next Story