Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रोहतक के पुलिस थानों में हुक्का, बीड़ी पीने वाले कर्मचारी नपेंगे, लगेंगे नो स्मोकिंग बोर्ड

एसआईटी में ड्यूटी करने वाले कर्मचारी हुक्का, बीड़ी के कश नहीं लगा सकेंगे। साथ ही उन्हें चेतावनी देने के लिए सरकारी भवनाें में सूचना बोर्ड भी लगेंगे।

रोहतक के पुलिस थानों में हुक्का, बीड़ी पीने वाले कर्मचारी नपेंगे, लगेंगे नो स्मोकिंग बोर्ड

रोहतक पुलिस महकमे को धूम्रपान मुक्त करने की कवायद शुरू हो गई है। पुलिस थानाें, चौकियों, सीआईए, एसआईटी में ड्यूटी करने वाले कर्मचारी हुक्का, बीड़ी के कश नहीं लगा सकेंगे। साथ ही उन्हें चेतावनी देने के लिए सरकारी भवनाें में सूचना बोर्ड भी लगेंगे। बार बार मिल रही शिकायतों के चलते डीजीपी मनोज यादव ने फरमान जारी किए हैं।

एसपी राहुल शर्मा ने सभी थाना प्रभारियोें को आदेशों से अवगत करा दिया हैै। आदेशों में स्पष्ट किया गया है कि आदेशों की पालना नहीं करने वाले कर्मचारियों को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया जाएगा और विभागीय जांच होगी।

हाल ही में अनिल विज ने गृह मंत्री बनने के बाद पुुलिस मीटिंंग में इस मुद्दे को उठाया गया था। डीजीपी कार्यालय को भी धूम्रपान से सम्बंधित शिकायतें मिल रही हैं। जिसके बाद हुक्का प्रथा और धूम्रपान को तत्काल प्रभाव से बंद करने के निर्देश जारी कर दिए हैं। राज्य के एडीजीपी, मंडल पुलिस आयुक्त, आईजी अंबाला, करनाल, रोहतक, रेवाड़ी समेत सभी जिला एसपी को निर्देश दिए हैं कि वह पुलिस थानों, चौकियों, एसआईटी व सीआईए कार्यालय में आदेशों की पालना करवाएं।

थाने, चौकियों में लगेंगे बोर्ड-

पुलिस विभाग में धूम्रपान तो बंद होगा ही साथ ही सैैकड़ों की संख्या में नो स्मोकिंग के चेतावनी बोर्ड भी लगाए जाएंगे। इन बोर्ड पर धुम्रपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। अगर कोई ऐसा करता है तो दोषियों के विरुद्ध नियमानुसार कानूनी कार्रवाई की जाएगी। यह भी लिखा जाएगा। बोर्ड के लिए हरियाणा पुलिस हाउसिंग कॉरपोरेशन को जिम्मेदारी दी गई है।

यह है जुर्माना-

धूम्रपान निषेध अधिनियम 2003 के तहत सार्वजनिक स्थल सड़क, बाजार, पार्क, सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालय, अस्पताल, सिनेमा हॉल, बस, रेल, ऑटो में धूम्रपान करने पर रोेक है। इसी तरह पुलिस की ईमारतों में धुम्रपान करने वालों पर जुर्माना लगाया जा सकता है।

पुलिस का बिगड़ रहा स्वास्थ्य-

धुम्रपान पर रोक के आदेश इसलिए भी महत्वपूर्ण हैं क्योंकि पुलिस का स्वास्थ्य भी बिगड़ रहा है। हर जिला स्तर पर लगाए जा रहे स्वास्थ्य जांच शिविरों में यह बात सामने आई है। ज्यादा धूम्रपान से कर्मचारियों को फेफड़ों के संक्रमण समेत कई तरह की गम्भीर बीमारियों का सामना करना पड़ रहा है।

Next Story
Top