Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

रेवाड़ी की टीम ने बुलंदशहर में लिंग जांच के खेल का किया भंडाफोड़, आशा वर्कर सहित तीन लोग गिरफ्तार

एक आशा वर्कर के घर लिंग परीक्षण का खेल चल रहा था। टीम ने मौके पर पहुंचकर तीन लोगों को गिरफ्तार किया और उनके कब्जे से 44 हजार रुपए भी बरामद किए।

हरियाणा : गर्भ में बच्चे का लिंग बताने वाले अस्पताल पर गिरी स्वास्थ्य विभाग की गाजhealth department Action to hospital showing gender of the child in the embryo

स्वास्थ्य विभाग रेवाड़ी व सीआईए की टीम ने यूपी के बुलंदशहर पहुंचकर लिंग जांच गिरोह का भंडाफोड़ किया। पुलिस ने गांव दिनोल से आशा वर्कर सहित तीन लोगों को काबू किया है। मौके से पोर्टेबल अल्ट्रासाऊंड मशीन भी बरामद की गई है। डीसी यशेन्द्र सिंह ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को सफल छापामार कार्रवाई के लिए बधाई दी है। साथ ही बुलंदशहर के डीएम रविन्द्र कुमार का भी सहयोग के लिए आभार जताया।

डीसी यशेन्द्र सिंह ने इस मामले को लेकर पीएनडीटी के नोडल अधिकारी डा. संजय, डा. जयप्रकाश व सीआईए के हवलदार संदीप सिंह, सिपाही बीर सिंह व महिला सिपाही प्रियंका के नेतृत्व में टीम का गठन किया था। टीम ने कार्रवाई को अंजाम देते हुए गुप्त सूचना के आधार पर छापामारी करते हुए गिरोह के सदस्यों का काबू कर लिया है।

आशआ वर्कर के घर चल रहा था खेल

जानकारी के मुताबिक दिनोल गांव में एक आशा वर्कर के घर लिंग परीक्षण का खेल चल रहा था। टीम ने मौके पर पहुंचकर तीन लोगों को गिरफ्तार किया और उनके कब्जे से 44 हजार रुपए भी बरामद किए। टीम ने डमी गर्भवती महिला को महिला कांस्टेबल के साथ 22 हजार रुपए देकर भेजा।

मीडियेटर महिला ने पहले इन लोगों को पठानबाग और फिर बुलंदशहर स्थित वल्लीपुरा नहर पर बुलाया, जहां पर 22 हजार रुपए लेकर महिला ने एक बाइक सवार के साथ गर्भवती महिला और महिला कांस्टेबल को दिनोल भेज दिया। जहां आशा वर्कर के घर पोर्टेबल मशीन द्वारा अवैध रूप से अल्ट्रासाउंड कर लिंग परीक्षण किया जा रहा था।

टीम ने आरोपित सुबोध शर्मा, भूपेन्द्र कुमार और संजय शर्मा को हिरासत में लिया। उनके कब्जे से पोर्टेंबल अल्ट्रासाउंड मशीन, 44 हजार रुपए और तीन मोबाइल बरामद किए। स्वास्थ्य विभाग की शिकायत पर खुर्जा देहात थाने में आशा वर्कर राजकुमारी, सुबोध शर्मा, भूपेन्द्र कुमार और संजय शर्मा और एक अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

दूसरी ओर डीसी यशेन्द्र सिंह ने बताया कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान को सफल बनाने के लिए सरकार जी-जान से प्रयासरत्त है। लिंग जांच करने वाले एवं कन्या भ्रूण हत्या करने वालों पर जिला प्रशासन पैनी नजर रखकर कार्य कर रहा है।

Next Story
Top