Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

प्रसाद के नाम पर भक्तों को लूटता था राम रहीम, बेचता था 1000 में मिर्च और 5000 का पपीता

बाबा पांच दिनों के मटर के पैक को 1000 रुपए में बेचता था।

प्रसाद के नाम पर भक्तों को लूटता था राम रहीम, बेचता था 1000 में मिर्च और 5000 का पपीता

दो साध्वियों से रेप के मामले में 20 वर्ष की सजा काट रहे राम रहीम के बारे में अब एक और नया खुलासा हुआ है। राम रहीम धर्म के नाम पर अनुयायियों को महंगे दामों पर भगवान का प्रसाद बताकर फल और सब्जियां बेचता था। राम रहीम के डेरा मे सब्जियां और फल इतने महंगे बिकते थे जितने शायद ही किसी दुनिया में बिकते हों।

गुरमीत राम रहीम का सिरसा का डेरा 700 एकड़ में फैला है और वो वहां सैकड़ों की खेती भी करता है। राम रहीम भगवान के प्रसाद के नाम पर अपने भक्तों को 5000 का एक पपीता बेचता था और एक हरी मिर्च एक हजार रुपए में बेची जाती थी।

साइज के हिसाब से तय होते थे सब्जियों के दाम

बाबा साइज के हिसाब से दाम तय करता था जैसे एक छोटे बैंगन का दाम 1000 रुपए और बड़े बैंगन का और ज्यादा दाम होता था। बाबा पांच दिनों के मटर के पैक को 1000 रुपए में बेचता था। बाबा दो टमाटर पर दो हजार रुपए चार्ज करता था।

नाम चर्चा घर में मंच का संचालन करने वाले भक्तों को भंगादास कहा जाता है। भंगीदास के पास भक्तों के घर तक सब्जियां पहुंचाने की जिम्मेदारी होता था। ग्रामीण और शहरी नाम चर्चा घरों के भंगीदार अलग-अलग होते हैं, फिर इन दोनों के ऊपर ब्लॉक का भंगीदास होता है। डेरा को सबसे जोड़ने के लिए राम रहीम ने भंगीदास को रखना शुरू किया था।

राम रहीम के समर्थक इन सब्जियों को इतने महंगे दामों पर भी खरीद लेते थे। उनका कहना था कि हमारे पिता ने इस सब्जियों को अपने हाथों से उगाया है और इन्हें खाने से हम बीमारियों से दूर रहेंगे।

Next Story
Share it
Top