Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

सुहागरात पर बोली पत्नी, मुझे तुमसे नहीं किसी और से करनी थी शादी, जज ने इसे माना क्रूर

हाईकोर्ट ने पति और पत्नी के पक्षों को ध्यान से सुनने के बाद अपना फैसला सुनाया, कोर्ट ने कहा कि क्रूरता का कोई पैमाना नहीं है जिससे ये आंका जा सके। क्रूरता को लेकर परिस्थितियां देखी जाती हैं। जज ने कहा कि पत्नी द्वारा दायर याचिका से पति व परिजनों को काफी कुछ झेलना पड़ा था।

सुहागरात पर बोली पत्नी, मुझे तुमसे नहीं किसी और से शादी करनी थी, कोर्ट ने इसे माना क्रूरPunjab Haryana High Court wife says i want marry someone court said cruel

हरियाणा में परिवारिक संबंधों को लेकर एक बेहद अजीब मामला सामने आया है। पति और पत्नी के बीच सुहागरात के दौरान हुई बात तलाक तक पहुंच गई जिसपर कोर्ट ने पत्नी की अपील खारिज करके पति के पक्ष में अपना तर्क रखा।

सोमवार को पंजाब-हरियाणा कोर्ट (Punjab-Haryana Court) ने तलाक के फैसले के खिलाफ दाखिल की गई याचिका को खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि सुहागरात पर ही पति से ये कहना की मैं तुमसे शादी नहीं करना चाहती, मै किसी और से शादी करना चाहती हूं किसी क्रूरता से कम नहीं है।

हाईकोर्ट ने पति और पत्नी के पक्षों को ध्यान से सुनने के बाद अपना फैसला सुनाया, कोर्ट ने कहा कि क्रूरता का कोई पैमाना नहीं है जिससे ये आंका जा सके। क्रूरता को लेकर परिस्थितियां देखी जाती हैं। जज ने कहा कि पत्नी द्वारा दायर याचिका से पति व परिजनों को काफी कुछ झेलना पड़ा था।

मिली जानकारी के अनुसार साल 2008 में दोनों की शादी हुई थी, शादी के अगले दिन ही पत्नी ने पति कहा कि मै किसी और से शादी करना चाहती हूं। इसके बाद वह एक महीने बाद ही अपने मायके चली गई। इस एक महीने के दौरान पत्नी ने पति व उसकी मां के साथ बदसलूकी भी की।

इसके बाद पति ने रेवाड़ी कोर्ट में तलाक को लेकर याचिका दायर की और फैसला उसके पक्ष में आया। इसके बाद पत्नी ने रेवाड़ी कोर्ट के फैसले को चुनौती देते हुए पंजाब-हरियाणा कोर्ट में तलाक के खिलाफ याचिका दायर की। जहां कोर्ट ने उसकी याचिका खारिज कर दी।

Next Story
Share it
Top