Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

गाड़ी पलटने पर युवकों को बचाने पहुंची पुलिस, बाहर निकाल तलाशी ली तो चारों निकले शातिर स्नैचर

रेवाड़ी में गाड़ी पलटने के बाद पहुंची पुलिस ने उसमें फंसे लोगों को निकाला, निकालने के बाद उनकी तालाशी ली गई तो पता चला कि वह सभी शातिर बदमाश हैं।

सांकेतिक फोटोसांकेतिक फोटो

रेवाड़ी के गांव मीरपुर में सूरजपुरा चौक पर हादसे का शिकार हुई पोलो गाड़ी में सवार चारों बदमाश शातिर स्नैचर निकले है। पुलिस पहुंची तो उन्हें बचाने के लिए थी, लेकिन तलाशी लेने के बाद पुलिस की आंखे खुली रह गई। चारों बदमाशों में से एक की जेब से देशी कट्टा व तीन अन्य युवकों की जेब से बड़ी मात्रा में जिंदा कारतूस व चली हुई गोली के खोल बरामद हुए।

चारों को प्राथमिक उपचार के बाद पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की तो बदमाशों करीब एक दर्जन वारदातों का खुलासा किया है। चारों बदमाश फरीदाबाद के रहने वाले है और एनसीआर क्षेत्र में वारदातों को अंजाम देते थे। 13 नवंबर को रेवाड़ी में गाड़ी लूटने के बाद बदमाशों ने 19 नवंबर को गुरुग्राम के अलीपुर गांव में एक युवक को गोली मार दी थी।

सोमवार की रात एक तेज रफ्तार पोलो गाड़ी गांव मीरपुर के पास अनियंत्रित होकर पलट गई। वहां से गुजर रहे लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। मौके पर पहुंची धारूहेड़ा थाना पुलिस ने चारों को गाड़ी से बाहर निकाला। चारों को ज्यादा चोट नहीं थी, लेकिन उनमें एक युवक बेहोश हो गया था।

उसकी पहचान के लिए पुलिस ने तलाशी ली तो उसकी जेब से कट्टा बरामद हुआ। बाद में पुलिस ने चारों की अच्छी तरह तलाशी ली तो पुलिस की आंखे खुली रह गई। तीन अन्य युवकों की जेब से भी बड़ी मात्रा में खाली खोल व जिंदा कारतूस बरामद हुए है। आरोपितों की पहचान फरीदाबाद निवासी विकास, अर्जुन साहू, नरेश भाटी, प्रवीण उर्फ कालू, सुधीर के रूप में हुई है। अर्जुन साहू को पुलिस ने फरीदाबाद से गिरफ्तार किया है।

तेल डलवाकर भागे थे

धारूहेड़ा पुलिस के अनुसार हादसे से पहले चारों बदमाशों ने गांव खिजुरी के पास महाबीर फिलिंग स्टेशन पर गाड़ी में तेल डलवाया था। सेल्समैन पैसे मांगने लगा तो उसे डरा धमकाकर बदमाश गाड़ी भगा ले गए थे। सीसीटीवी में गाड़ी के नंबर कैद हो गए थे। इसी आधार पर पुलिस बदमाशों के पीछे लगी हुई थी। हादसे से पहले भी बदमाशों को लगा कि पुलिस उनके पीछे आ रही है। जिससे उन्होंने छोटे रास्ते पर ही गाड़ी को तेज गति से भगा दिया।

बुलेट के नंबर की प्लेट लगाई गाड़ी पर

पुलिस ने जांच की तो पोलो गाड़ी पर लगी नंबर प्लेट फर्जी पाई गई। गाड़ी पर मिले नंबर हिसार में एक बुलेट बाइक पर रजिस्ट्रड है। सख्ताई से पूछताछ करने पर बदमाशों ने बताया कि पोलो गाड़ी उन्होंने 13 नवंबर को कसौला थाना क्षेत्र के एनएच-71 से लूटी थी। उस दौरान बदमाश अपना कट्टा मौके पर ही छोड़कर फरार हो गए थे।

नरेश निकला मास्टर माइंड

पुलिस के अनुसार इस गिरोह का मास्टर माइंड 22 वर्षीय नरेश भाटी है। उस पर रेवाड़ी व फरीदाबाद जिले में कुल आधा दर्जन संगीन मामले दर्ज है। इनमें हत्या का प्रयास, स्नैचिंग, लूट व मारपीट के मामले दर्ज है। नरेश भाटी इस इलाके से अच्छी तरह वाकिफ है। क्योंकि कुछ साल पहले तक वह केएलपी कॉलेज में पढ़ता था और जिले के गांव लाधुवास में अपनी बुआ के घर रहता था। बीए द्वितीय वर्ष की पढ़ाई बीच में छोड़कर वह वापस फरीदाबाद चला गया था। वहीं उसने गिरोह तैयार किया और पहले फरीदाबाद तथा अब रेवाड़ी के आसपास वारदातों को अंजाम देना शुरू कर दिया था।

नाबालिग उम्र में अपराधी बन बैठा

पांचों बदमाशों की उम्र 25 साल से कम है। इनमें विकास (23), अर्जुन साहू (21), नरेश भाटी (22), प्रवीण उर्फ कालू (21) व सुधीर (22) साल का है। पुलिस के अनुसार प्रवीण उर्फ कालू बड़ा शातिर है। उसने मात्र 17 साल की उम्र में ही बाइक चोरी की वारदात को अंजाम दिया था। उसके बाद जमानत पर बाहर आया और फिर एक बाद एक कई वारदातों को अंजाम दिया। बदमाशों के पास से एक लूटी हुई पोलो गाड़ी, 1 पिस्तौल, एक कट्टा व 13 कारतूस जिंदा व 9 खाली खोल बरामद किए गए है।

गिरोह के खिलाफ दर्ज मुकदमें

बदमाश विकास के खिलाफ धारूहेड़ा में धोखाधड़ी व आर्म्स एक्ट के मामले दर्ज है। जबकि फरीदाबाद में हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है। इसी प्रकार अर्जुन के खिलाफ धारूहेड़ा में आर्म्स एक्ट व धोखाधड़ी तथा फरीदाबाद में मारपीट के मामले दर्ज है। नरेश भाटी के खिलाफ आधा दर्जन मामले दर्ज है, जिनमें धोखाधड़ी व आर्म्स एक्ट धारूहेड़ा, कसौला में लूट के दो मामले, फरीदाबाद में हत्या का प्रयास व मारपीट के मामले दर्ज है। प्रवीण उर्फ कालू के खिलाफ पांच मामले दर्ज है। इनमें तीन धारूहेड़ा व एक गुरुग्राम व एक फरीदाबाद में दर्ज है। सुधीर के खिलाफ धारूहेड़ा व फरीदाबाद में तीन मामले दर्ज है।

बदमाशों को रिमांड पर लिया गया है। रिमांड के दौरान ओर सख्ताई से पूछताछ की जाएगी। हंसराज, डीएसपी हैडक्वार्टर।

Next Story
Top