Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नशा तस्कर का पीछा करते गांव पहुंची पुलिस, ग्रामीणों से साथ हुई भिडंत में वृद्ध की गई जान

बठिंडा पुलिस को नशा तस्करी के एक मामले में गांव देसूजोधा के कुलविंद्र सिंह उर्फ कांदी की तलाश थी। एएसपी जीएस संघा के मुताबिक बठिंडा की सीआईए पुलिस टीम द्वारा गत 7 अक्टूबर को 6 हजार नशीली गोलियों के साथ पकड़े गए 2 आरोपितों ने सप्लायर के तौर पर देसूजोधा के कुलविंद्र सिंह का नाम लिया था।

Demo pictureDemo picture

एक नशा तस्कर को पकड़ने के लिए बुधवार अलसुबह गांव देसूजोधा में आई पंजाब पुलिस की टीम की ग्रामीणों के साथ जबरदस्त खूनी भिड़ंत हो गई। इस दौरान मारपीट के बाद दोनों पक्षों में गोलियां तक चल गई जिससे एक ग्रामीण की गोली लगने से मौत हो गई। पंजाब पुलिस के एक कांस्टेबल को भी गोली लगी है और उसकी हालत भी गंभीर बनी हुई है। आपसी मारपीट में टीम प्रभारी सहित 6 पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। घायलों में एक महिला पुलिस कर्मी भी शामिल है।

जानकारी के मुताबिक बठिंडा पुलिस को नशा तस्करी के एक मामले में गांव देसूजोधा के कुलविंद्र सिंह उर्फ कांदी की तलाश थी। एएसपी जीएस संघा के मुताबिक बठिंडा की सीआईए पुलिस टीम द्वारा गत 7 अक्टूबर को 6 हजार नशीली गोलियों के साथ पकड़े गए 2 आरोपितों ने सप्लायर के तौर पर देसूजोधा के कुलविंद्र सिंह का नाम लिया था। इन सभी पर रामां पुलिस थाने में मामला दर्ज किया गया।

पंजाब पुलिस को पता चला कि कुलविंद्र सिंह सुबह के समय पंजाब क्षेत्र में मेडिकल नशे की सप्लाई करने के लिए आता है। इसे लेकर सीआईए बठिंडा-1 पुलिस की टीम ने इंचार्ज हरजीवन सिंह के नेतृत्च में नाका लगा लिया। बुधवार सुबह जब कुलविंदर सिंह आया तो पुलिस ने उसे पकड़ने का प्रयास किया लेकिन उस समय वह वहां से भागने में सफल रहा। पंजाब पुलिस उसका पीछा करते हुए गांव देसूजोधा में पहुंच गई और अपने घर में छिपकर बैठे कुलविंद्र सिंह को पकड़ लिया।

लेकिन इसी दौरान वहां कुलविंद्र सिंह के कुछ परिजन व अन्य लोग एकत्रित हो गए और पुलिस टीम को घेर लिया। उन्होंने कुलविंद्र को पंजाब पुलिस द्वारा पकड़ने का विरोध किया। इस पर दोनों पक्ष आपस मे उलझ गए और ग्रामीणों व पुलिस के बीच जबरदस्त भिड़ंत हो गई। बताया जाता है कि इस दौरान लोगों ने पुलिस कर्मियों के साथ खूब मारपीट की। झगड़े ने ऐसा तूल पकड़ा कि हथियार तन गए और वहां फायरिंग भी होने लगी।

इसमें एक ग्रामीण 65 वर्षीय जग्गा सिंह व पंजाब पुलिस के कांस्टेबल कमलदीप सिंह को गोली लगी। बाद में जग्गा सिंह को ओढ़ां के अपताल में व कमलदीप सिंह को इलाज के लिए डबवाली के नागरिक अस्पताल में ले जाया गया। घायल जग्गा सिंह की कुछ समय बाद मौत हो गई। वहीं, मारपीट में सीआईए बठिंडा-1 के इंचार्ज हरजीवन सिंह, टीम सदस्य एएसआई जसकरण सिंह, एएसआई सुखदेव सिंह, एएसआई गुरतेज सिंह व महिला कांस्टेबल मनप्रीत कौर घायल हुए हैं जिन्हें भी घायलावस्था में डबवाली के अस्पताल में इलाज के लिए लाया गया।

सूचना मिलने पर बठिंडा से पंजाब पुलिस के एएसपी जीएस संघा, डीएसपी कुलदीप सिंह रामा मंडी के एसएचओ नवप्रीत सिंह संधू व पंजाब पुलिस के अन्य अधिकारी भी डबवाली अस्पताल में पहुंच गए और घायल पुलिस कर्मियों की सुध ली। प्राथमिक उपचार के बाद डॉक्टरों द्वारा रेफर किए जाने से कमलजीत सिंह तथा चार अन्य पुलिसकर्मियों को इलाज के लिए बठिंडा ले जाया गया। वहीं डबवाली के डीएसपी कुलदीप सिंह, सिटी डबवाली एसएचओ जितेंद्र कुमार, सीआईए इंचार्ज कुलदीप सिंह भी पहुंच गए व घायल पुलिसकर्मियों के बयान दर्ज करने की प्रक्रिया शुरु की।

ग्रामीणों ने पुलिस पर हमला कर छुड़वाया आरोपित: एसएसपी

इस संबंध में एएसपी जीएस संघा ने बताया कि सीआईए पुलिस बठिंडा-1 की टीम नशा तस्करी मामले में वांछित कुलविंद्र सिंह उर्फ कांदी को गिरफ्तार कर लिया था लेकिन ग्रामीणों ने पुलिस मुलाजिमों पर हमला कर उसे छुड़ा लिया। मुलाजिमों के हथियार व मोबाइल भी छीन लिए। पहले तो मुलाजिमों से मारपीट की और फिर से उन्हीं के हथियारों से उन पर गोलियां चला दी। गोली लगने से बुरी तरह घायल कांस्टेबल कमलजीत सिंह की हालत गंभीर बनी हुई है।

40-50 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज

सिटी डबवाली के एसएचओ जितेंद्र कुमार ने बताया कि पंजाब पुलिस के एएसआई हरजीवन सिंह के बयानों पर गांव देसूजोधा के 40-50 लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है। मृतक जग्गा सिंह के शव का पोस्टमार्टत करवाने के उपरांत परिजनों के बयानों पर इस मामले में पंजाब पुलिस पर भी आगामी कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story
Top