Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Police : युवक के प्राइवेट पार्ट में इंजेक्शन के जरिए डाला पेट्रोल

सेक्टर-75 के क्राइम ब्रांच बीपीटीपी पुलिस पर एक युवक को घलत तरीके से गिरफ्तार किया। उसके बाद अमानवीय व्यवहार करते हुए थर्ड डिग्री देकर टार्चर किया है।

Police brutality: Petrol injected into the young manवक के प्राइवेट पार्ट में इंजेक्शन के जरिए डाला पेट्रोल

सेक्टर-75 के क्राइम ब्रांच बीपीटीपी पुलिस पर एक युवक को गलत तरीके से गिरफ्तार किया है। उसके बाद अमानवीय व्यवहार करते हुए थर्ड डिग्री टार्चर दिया है। पीड़ित का आरोप है कि पुलिस ने उसके मलद्वार में इंजेक्शन के जरिए पेट्रोल डाल दिया। पुलिस ने उस पर नशीले पदार्थ बेचने का आरोप लगाकर गिरफ्तार किया था। फिर उसे छोड़ने के लिए उसकी पत्नी को फोन करके 50 हजार रुपये की मांग की। उसकी पत्नी ने अदालत से युवक के सर्च वारंट कराए। तब क्राइम ब्रांच ने उसे छोड़ा। अब युवक ने सीएम, डीजीपी और पुलिस आयुक्त को इस मामले की शिकायत की है। हालांकि अभी उसकी शिकायत पर पुलिस प्रशासन ने संज्ञान नहीं लिया है।

सेक्टर-62 के आशियाना फ्लैट में रहने वाले पीड़ित युवक ने बताया कि करीब एक साल पहले वह दिल्ली में नशीला पदार्थ बेचने के जुर्म में पकड़ा गया था। इसके बाद से उसने यह काम छोड़ दिया था। आरोप है कि पुलिसकर्मी उसे अभी भी परेशान करते हैं। अब 11 नवंबर को बीपीटीपी क्राइम ब्रांच के पुलिसकर्मी उसे घर से उठाकर ले गए। उन्होंने उसे क्राइम ब्रांच में ले जाकर बेरहमी से पीटाई की। शिकायत के अनुसार पुलिसकर्मियों ने उसकी पत्नी को फोन करके 50 हजार रुपये की मांग भी की। उसकी पत्नी ने खुद के पास इतने रुपये ना होने की बात कही तो पुलिसकर्मियों ने उसे और अधिक प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। आरोप है कि इंजेक्शन से उसके प्राइवेटपार्ट में पेट्रोल डाल दिया।

युवक ने बताया कि वहां से छूटने के बाद उसने बादशाह खान अस्पताल में अपना मेडिकल कराया। जिसमें डॉक्टरों ने उसे पीटे जाने की पुष्टि की। वहीं डॉक्टरों ने पुलिस के बिना मलद्वार का मेडिकल करने से साफ मना कर दिया। तब उसने प्राइवेट अस्पताल से अपना मेडिकल कराया। पुलिस आयुक्त केके राव के मुताबिक पूरी घटना कुछ और भी हो सकती है। जांच के बाद ही मामला सामने आएगा। उन्होंने कहा अभी मेरे पास इस तरह की कोई शिकायत नहीं आई है। अगर शिकायत आती है तो इसकी पूरी जांच कराई जाएगी। यदि क्राइम ब्रांच, पुलिस टीम का कोई सदस्य दोषी मिला तो उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story
Top