Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दुष्कर्म के मामले में एक आरोपी दोषी करार, दूसरा किया गया बरी

मोनू नाम का युवक उनके बेटे को बहला-फुसलाकर अपने साथ खाली प्लॉट में ले गया। युवक ने बच्चे के साथ गलत काम किया। हालांकि बच्चे के रोने की आवाज सुनकर जब आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तो युवक बच्चे को छोड़कर फरार हो गया था।

सांकेतिक फोटोसांकेतिक फोटो

दुष्कर्म के दो मामलों में बुधवार को कोर्ट ने एक आरोपित को दोषी करार दिया। वहीं, कोर्ट ने नामजद आरोपित को तथ्यों के आधार पर बरी कर दिया। सात साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म के मामले में नामजद आरोपित को अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरपी गोयल की कोर्ट ने दोषी करार दिया है। इस आरोपित को कोर्ट द्वारा बृहस्पितवार को सजा सुनाई जाएगी।

वहीं दुष्कर्म के एक अन्य मामले में कोर्ट ने नामजद आरोपित को तथ्यों के आधार पर बरी कर दिया है। पहले मामले में पुरानी सब्जी मंडी थाना क्षेत्र की एक कॉलोनी निवासी व्यक्ति ने मार्च 2018 में पुलिस को शिकायत दी थी। शिकायतकर्ता के मुताबिक वह अपनी पत्नी के साथ दिहाड़ी मजदूरी कर काम करता है और उसके पास तीन बच्चे है। घटना के दिन उसका सात साल का बेटा दोपहर के समय स्कूल से वापस घर आ रहा था।

इसी दौरान उनके पड़ोस में रहने वाला मोनू नाम का युवक उनके बेटे को बहला-फुसलाकर अपने साथ खाली प्लॉट में ले गया। युवक ने बच्चे के साथ गलत काम किया। हालांकि बच्चे के रोने की आवाज सुनकर जब आसपास के लोग मौके पर पहुंचे तो युवक बच्चे को छोड़कर फरार हो गया था। पुलिस ने युवक के खिलाफ पोक्सो एक्ट समेत अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू की। पुलिस ने आरोपित युवक को गिरफ्तार कर लिया था और

तब से वह जेल में ही बंद है। ऐसे में अब इस मामले में कोर्ट ने आरोपित को दोषी करार दे दिया है और बृहस्पितवार को उसे सजा सुनाई जाएगी। दुष्कर्म के एक अन्य मामले में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश आरपी गोयल की कोर्ट ने तथ्यों और सुबूतों के आधार पर नामजद आरोपित को बरी कर दिया। बीते वर्ष एक युवती ने महिला थाने में शिकायत दी थी कि उसने अपनी पहचान की लड़की की शादी डीघल गांव के रहने वाले सोनू के साथ कराई थी।

इसी माध्यम से सोनू के भाई मोनू से उसकी जानकारी हो गई। इन दोनों के बीच बातचीत बढ़ती गई और मोनू उसे कई बार होटल समेत अन्य कई जगह लेकर गया जहां उसने उसके साथ गलत काम करके अश्लील फोटो खींच लिए। पीड़िता के मुताबिक युवक ने उसकी अश्लील फोटो और वीडियो इंटरनेट पर अपलोड कर दिए और उसके साथ शारीरिक संबंध नहीं बनाने पर जान से मारने की धमकी दी थी।

लेकिन पीड़िता ने पुलिस को शिकायत दी तो युवक के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई। पुलिस ने आरोपित युवक को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे भेज दिया और तब से यह मामला कोर्ट में विचाराधीन था। लेकिन कोर्ट ने आरोपित को बरी कर दिया।

Next Story
Top