Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुरथल गैंगरेप में नया खुलासा, जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 9 महिलाओं से हुआ गैंगरेप

जाट आंदोलन में मुरथल में हुए गैंगरेप में एक नया खुलासा हुआ है।

मुरथल गैंगरेप में नया खुलासा, जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 9 महिलाओं से हुआ गैंगरेप

जाट आंदोलन में मुरथल में हुए गैंगरेप में एक नया खुलासा हुआ है। मुरथल कांड को लेकर पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान न्यायमित्र अनुपम गुप्ता ने यह कहकर सनसनी मचा दी कि 22 और 23 फरवरी 2016 को मुरथल में 9 रेप हुए थे।

जांच सीबीआई को सौंपने की मांग

अनुपम का कहना है कि यह बात खुद उन्हें हरियाणा के सीनियर पुलिस अधिकारी विजय वर्धन ने बताई थी। अनुपम ने कोर्ट को बताया कि हरियाणा के एक आईएएस अशोक खेमका का मुझे फोन आया था कि विजयवर्धन आपसे कुध बात करना चाहते हैं, इसलिए आप उनके कॉल को पिक कर लीजिएगा। साथ ही अनुपम ने न्यायालय से अनुरोध किया है कि वह इस मामले की जांच को सीबीआई को सौंप दे।

जज एसएस सारो के जाने के बाद मुरथल मामला पहली बार डबल बेंच के सामने आया है, जिसके चलते ही अनुपम सारे मामले की जानकारी कोर्ट से सांझा कर रहे हैं।

1212 एफआईआर दर्ज, 921 मामले अनट्रेस

अनुपम का कहना है कि हरियाणा डीजीपी रहे केपी एस सिंह ने विजयवर्धन से मुरथल मामले से जुड़ी जानकारी शेयर की थी कि जाट आंदोलन के समय नौ रेप के मामले सामने आए थे, लेकिन लिखित तौर पर इसकी कोई जानकारी नहीं दी गई थी।

अनुपम ने हाईकोर्ट को दी जानकारी में बताया कि मुरथल गैंगरेप मामले सहित जाट आंदोलन के समय 1212 एफआईआर दर्ज की गई थी, जिनमें से केवल 921 मामलों की ही अंतरिम रिपोर्ट तैयार की गई है। बाकी के मामलों पर कोई रिपोर्ट नही बनाई गई।

1105 मामले अनअटेंडेड की श्रेणी में

साथ ही अनुपम ने कोर्ट को यह भी बताया कि उस समय पुलिस सिर्फ 172 लोगों को गिरफ्तार कर पाई थी और पुलिस द्वारा केवल 81 मामलों में चालान पेश किया गया है। बाकी के 1105 मामलों को अनअटेंडेड की श्रेणी में रखा गया है।

हाईकोर्ट ने मामले को लेकर कहा है कि यह बेंच पहली बार इस केस को सुन रही है इसलिए पिछले सभी आदेशों को पढ़ने के बाद ही वह इस मामले पर कोई सुनवाई कर पाएगी।

Next Story
Share it
Top