Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नवजात का शव कब्र से निकालकर भेजा गया रोहतक पीजीआई, मां के गर्भ में हुई थी मौत

शव को कब्र से खिजराबाद नायब तहसीलदार एवं जांच अधिकारी तुलसीदास की देखरेख में निकाला गया। मां का आरोप है कि गांव के निजी डॉक्टर के गलत इलाज के कारण गर्भ में ही बच्ची की मौत हुई।

Haryana GraveHaryana Grave

गांव बोंबेपुर में महीना भर पहले मां के गर्भ में हुई नवजात का शव शुक्रवार को कब्र से निकालकर पोस्टमार्टम के लिए पीजीआई रोहतक भेज दिया गया। शव को कब्र से खिजराबाद नायब तहसीलदार एवं जांच अधिकारी तुलसीदास की देखरेख में निकाला गया। मां का आरोप है कि गांव के निजी डॉक्टर के गलत इलाज के कारण गर्भ में ही बच्ची की मौत हुई।

मां की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर कब्र से शव निकलवाकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है। जानकारी के मुताबिक खिजराबाद क्षेत्र के गांव बोंबेपुर निवासी अरूण खातून ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह सात आठ महीने से गर्भ से थी। उसका इलाज गांव के निजी डॉक्टर रफाकत द्वारा किया जा रहा था।

गत 10 सितंबर को वह बच्चे की कोई मोमेंट ना होने के कारण यमुनानगर अल्ट्रासाउंड कराने गई थी। इस दौरान अल्ट्रासाउंड के बाद डॉक्टर ने बताया कि बच्चे की मौत हो चुकी है। महिला के पति सलमान ने बताया कि वह परेशान होकर यमुनानगर के डॉक्टरों से राय मशविरा करने पहुंचे लेकिन सभी ने डिलीवरी से मना कर दिया।

मगर दो दिन बाद यमुनानगर के एक निजी अस्पताल में अरुणा ने मृत बच्ची को जन्म दिया। गमगीन माहौल में बच्ची को गांव के कब्रिस्तान में गत 12 सितंबर को दफना दिया। उन्होंने आरोप लगाया कि निजी डॉक्टर द्वारा गलत दवाइयां व इंजेक्शन दिए जाने की वजह से नवजात की मौत हो गई।

पुलिस ने शिकायत के आधार पर खिजराबाद नायब तहसीलदार तुलसीदास की देखरेख में शुक्रवार को कब्र से नवजात बच्ची का शव निकाला गया और उसे पोस्टमार्टम के लिए पीजीआई रोहतक में भेज दिया गया। मामले की जांच कर रहे अधिकारी जयकिशन ने बताया कि शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद जो कार्रवाई बनेगी की जाएगी। फिलहाल मामले में जांच की जा रही है।

Next Story
Share it
Top