Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

एनडीआरएफ ने मलबे से निकाले दो शव

मरने वालों की संख्या 6 हुई, चारों शवों का करवाया पोस्टमार्टम, कई लोग अभी भी लापता।

एनडीआरएफ ने मलबे से निकाले दो शव
X
हरिभूमि न्यूज. बहादुरगढ़। शहर के आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र में एक केमिकल फैक्ट्री के रिएक्टर में हुए हृदयविदारक विस्फोट के बाद प्रशासन की विभिन्न टीमें शनिवार को भी बचाव कार्य में जुटी रही। शनिवार शाम को एनडीआरएफ की टीम ने मलबे में से दो शव बरामद किए हैं। अनेक टुकड़ों में विभाजित दोनों शवों को पहचान के लिए शहर के नागरिक अस्पताल के शव गृह में भिजवा दिया गया है। वहीं शहर थाना पुलिस ने चार शवों का पोस्टमार्टम करवाने के बाद दो शव परिजनों को सौंप दिए हैं। उम्मीद है कि रविवार शाम तक पूरा मलबा हट जाएगा।

मलबा हटा रही एनडीआरएफ

गाजियाबाद से आई एनडीआरएफ की टीम में 38, दिल्ली से आई एनडीआरएफ की टीम में 45 और एसडीआरएफ की टीम में शामिल 40 लोग शुक्रवार शाम से ही लगातार मलबे को हटाने में जुटे हुए हैं। पुलिस के करीब डेढ़ सौ जवान भी बचाव कार्यों मंे सहायता कर रहे हैं। राहत टीम शुक्रवार शाम से पोकलेन मशीन की डिमांड कर रही है, लेकिन प्रशासन ने शनिवार शाम तक उन्हें पोकलेन उपलब्ध करवाई। इसके बाद बरसात के कारण बचाव कार्य काफी देर तक प्रभावित रहा।

अभी लापता हैं चार लोग

केमिकल फैक्ट्री में काम करने वाले दामोदर, सरोज, विवेक और ड्राइवर राजकुमार अभी भी लापता हैं। पुलिस अपने स्तर पर गायब लोगों की जानकारी जुटाने में लगी है। लापता लोगों के परिजन कभी सरकारी व निजी अस्पताल तो कभी मौके पर अपनों की तलाश के लिए भटक रहे हैं। सिटी एसएचओ बिजेंद्र सिंह का कहना है कि लापता लोगों का ब्यौरा जुटाया जा रहा है। आसपास के इलाके में भी तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। मलबा हटने के बाद ही पूरी तरह तस्वीर साफ हो पाएगी।

मृतकों की हुई पहचान

पुलिस ने आधिकारिक रूप से दो मृतकों की पहचान कर ली है। पोस्टमार्टम उपरांत दोनों शवों को उनके वारिसों को सौंप दिया गया। इनमें से एक नरेश पुत्र छोटेलाल जूते बनाने वाली फैक्ट्री संख्या 1815 में ही अपनी पत्नी और बच्चे के साथ रहता था। हादसे में नरेश की मौत हो गई, जबकि उसकी पत्नी और दो बच्चे घायल हैं। दूसरे मृतक की पहचान सूरज उर्फ मोनू पुत्र मंगल के रूप में हुई है। सूरज की मां भी जख्मी है। जबकि तीसरा मृतक कूकर फैक्ट्री का गार्ड श्रीकांत और चौथा मृतक श्रमिक इंद्रजीत बताया जा रहा है।

ये सभी लोग हुए घायल

इस दुर्घटना में घायल ललित पुत्र बीरबल, मोहम्मद सलीम पुत्र मोहम्मद अकील, रमिया प्रसाद पुत्र मदन प्रसाद, पंचमी पुत्र रामकुमार, धर्मवीर पुत्र कर्ण सिंह, मुकेश पुत्र मुनेश्वर, जुगराज पत्नी सरिफ उमर, पूजा पुत्री मेवा राम, रामकुमार पुत्र रूपलाल, शिवांगी पुत्री पप्पू सिंह, गौतम पुत्र मुल्क राज, रंजन पुत्र मंगतराम व अश्वनी पुत्र मंगतराम को जीवन ज्योति अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। जबकि राजन जैन पुत्र राजकुमार जैन को दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में रेफर कर दिया गया था। इनके अलावा कांता देवी पत्नी नरेश, उषा पत्नी अनिल, विवेक पुत्र अमित, नीलेश पुत्र अमित, बिमला पत्नी बीरबल, पूनम पत्नी सोनवीर, अभिषेक पुत्र अमित, अंकित पुत्र नरेश, कुलदीप पुत्र नरेश, सविता पत्नी ओमबीर, पुष्पा पत्नी बृजेश, सरोज पुत्र बृजेश, शांति पत्नी अशोक, मनोरमा पत्नी राजीव व रिंकी पत्नी संजय नागरिक अस्पताल में भर्ती करवाए गए थे।

Next Story