Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बस कंडक्टर ने कबूला जुर्म- कहा- स्कूल में बच्चे के साथ कुकर्म के बाद की हत्या!

शव के पास से चाकू भी बरामद किया गया है।

बस कंडक्टर ने कबूला जुर्म- कहा- स्कूल में बच्चे के साथ कुकर्म के बाद की हत्या!

साइबर सिटी गुरुग्राम के प्रतिष्ठित निजी स्कूल रायन इंटरनेशनल में शुक्रवार को दूसरी कक्षा के छात्र की गला काटकर हत्या कर दी गई। सात साल के मासूम प्रद्युम्न ठाकुर का शव स्कूल शुरू होने के महज 15 मिनट बाद शौचालय में मिला।

शव के पास से चाकू भी बरामद किया गया है। पुलिस ने देर शाम हत्या के आरोप में स्कूल बस के कंडक्टर को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार, आरोपी अशोक कुमार (42) ने हत्या से पहले बच्चे से कुकर्म की कोशिश की थी।

इसे भी पढ़ें: गुरुग्राम: पिता बोले- मेरे बेटे का हुआ मर्डर, चाहिए इंसाफ

घामड़ौज निवासी अशोक ने पूछताछ में अपना जुर्म कबूल कर लिया है। डीसीपी ने बताया कि आरोपी ने बच्चे का यौन उत्पीड़न करने का प्रयास किया था, जब बच्चे ने विरोध किया तो आरोपी ने उसे मार डाला।

डीसीपी ने बताया कि अभियुक्त पिछले करीब 8 महीने से स्कूल में काम कर रहा था। आरोपी शौचालय का इस्तेमाल करने गया था, यहीं उसने बच्चे को देखा था। आरोपी के पास पहले से ही चाकू था।

सुबह ही पिता बच्चे को स्कूल छोड़ आए थे

स्कूल के पीछे ही श्यामकुंज गली-2 में रहने वाले प्रद्युम्न को उसके पिता वरुण ठाकुर शुक्रवार सुबह करीब 7:55 बजे स्कूल के गेट पर छोड़कर आए थे। थोड़ी देर बाद 8:10 बजे स्कूल के एक माली ने खून से लथपथ प्रद्युम्न को शौचालय के बाहर गिरा देखा। पास में ही खून से सना चाकू पड़ा था। इसकी जानकारी जूनियर विंग की को-ऑर्डिनेटर को दी गई और पुलिस को तत्काल सूचित किया गया।

पिता को बच्चे की तबीयत खराब होने की दी गई थी सूचना

पिता को बच्चे की तबीयत खराब होने की सूचना दी गई और उनसे बादशाहपुर के निजी अस्पताल में आने को कहा गया। अस्पताल प्रबंधन ने गले पर गहरे घाव को देखते हुए बाहर से ही बच्चे को सेक्टर-51 के आर्टेमिस अस्पताल भेज दिया, जहां डॉक्टरों ने जांच के बाद प्रद्युम्न को मृत घोषित कर दिया। डॉक्टरों का कहना है कि अस्पताल पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो चुकी थी। ओरियंट कंपनी में बतौर क्वालिटी मैनेजर कार्यरत बच्चे के पिता का कहना है कि यह साफ तौर पर हत्या का मामला है।

पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंपा

डीसीपी क्राइम सुमित कुमार, डीसीपी साउथ अशोक बख्शी, नोडल अधिकारी व डीसीपी सिमरदीप सिंह समेत दो एसीपी भी मौके पर पहुंचे। फोरेंसिक एक्सपर्ट की टीम के साथ पुलिस ने भी मामले की जांच की। फोरेंसिक टीम ने मौके से ब्लड सैंपल और फिंगर प्रिंट इकट्ठे किए हैं। पुलिस ने पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को सौंप दिया है।

Next Story
Share it
Top