Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मां ने दो मासूम बच्चियों को अस्पताल में छोड़ा, एक हालत नाजुक, दूसरी स्थिर

एक बच्ची का वजन तो मात्र 850 ग्राम था, जबकि दूसरी बच्ची का वजन 900 ग्राम से थोड़ा ऊपर था।

मां ने दो मासूम बच्चियों को अस्पताल में छोड़ा, एक  हालत नाजुक, दूसरी स्थिर
कुरुक्षेत्र. धर्मनगरी में मां की ममता एक बार फिर तार-तार हो गई। लोक नायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में दो अबोध बच्चियों का इलाज करवा रही मां उन्हें उपचार कक्ष में छोड़ कर चली गई। इनमें से एक बच्ची की हालत नाजुक बनी हुई है।
जिले के बाबैन स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में भगवानपुर के ईंट-भट्ठे पर कार्य करने वाली महिला अनिता ने 11 जून को दो जुड़वां बच्चियों को जन्म दिया था। इन बच्चियों का वजन निर्धारित मात्रा से बहुत कम होने पर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के डॉक्टरों ने एलएनजेपी रेफर कर दिया था।

ये भी पढें महेंद्रगढ़ में मिड-डे मील वर्करों का प्रदर्शन, सड़क पर उतरकर मांगा इंसाफ

जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. केके शर्मा ने बताया कि एक बच्ची का वजन तो मात्र 850 ग्राम था, जबकि दूसरी बच्ची का वजन 900 ग्राम से थोड़ा ऊपर था। इन हालात में बच्चियों को मशीनों से बाहर रखा जाता तो लगभग 3 घंटों के बाद इनकी जान जा सकती थी।
इसी के चलते इन दोनों बच्चियों को एलएनजेपी के शिशु नर्सरी वार्ड में रखा गया, जबकि उनकी मां अनिता को मदर वार्ड में अलग से रखा गया। शिशु नर्सरी वार्ड की डा. श्वेता ने बताया कि दोनों बच्चियों की नाजुक हालत को देखते हुए बच्चियों का उपचार शुरू कर दिया गया।
जिला सिविल सर्जन डा. शर्मा ने बताया कि गत 23 जून को इन बच्चियों की मां अनिता जब अस्पताल से इन दोनों बच्चियों को लेने के लिए पहुंची तो ड्यूटी पर उपस्थित डॉ. अनुपमा सिंह ने बच्चियों ले जाने से मना कर दिया।
जब वह नहीं मानी तो डा. अनुपमा सिंह उस महिला को साथ लेकर उनके कार्यालय में पहुंची। महिला ने बताया कि चूंकि उसकी सास की मौत होने के कारण उसका पति व अन्य सभी परिजन भगवानपुर से बिहार जा चुके हैं, ऐसे में वे यहां अकेली रह रही है। वह इन दोनों बच्चियों को बिहार ले जाना चाहती है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top