Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अभय सिंह ने लगाई पार्टी छोड़ने वाले विधायकों को लताड़, कहा, किसी में दम नहीं था कि विधायक बन पाते

पार्टी के विधायको का नाम लेते हुए उन्होने कहा कि रामचंद्र कंबोज में इतना दम नहीं था कि वह रनियां से विधायक बन सकें। न ही मखन लाल सिंगला और फतेहाबाद के बलवान सिंह दौलतपुरिया में इतनी ताकत थी कि वह अपने दम पर विधायक बन सके।

अभय सिंह ने लगाई पार्टी छोड़ने वाले विधायकों को लताड़, कहा, किसी में दम नहीं था कि विधायक बन पाते

हरियाणा में इन दिनों सियासी गर्मी बढ़ी हुई है। इसका कारण कुछ और नहीं बल्कि अगले कुछ महीनों में होना वाला विधानसभा (Haryana Assembly Election 2019) का चुनाव है। चुनाव की तैयारियों के बीच इंडियन नेशनल लोकदल के वरिष्ठ नेता व ऐलानाबाद विधानसभा के विधायक चौधरी अभय सिंह चौटाला पार्टी छोड़कर गए विधायकों को जमकर कोसा।

अपने आवास पर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने पार्टी छोड़ने वाले विधायकों को जमकर लताड़ा। जननायक जनता दल (JJP) से गठबंधन को लेकर पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि ये संभव नहीं है। जेजेपी ने तीन पार्टियों से गठबंधन किया और तीनों को धोखा दिया। आखिर धोखा देने वाली पार्टी पर कैसे कोई भरोसा करेगा।

पार्टी के विधायको का नाम लेते हुए उन्होने कहा कि रामचंद्र कंबोज में इतना दम नहीं था कि वह रनियां से विधायक बन सकें। न ही मखन लाल सिंगला और फतेहाबाद के बलवान सिंह दौलतपुरिया में इतनी ताकत थी कि वह अपने दम पर विधायक बन सके।

अभय सिंह (Abhay Singh Chautala) ने कहा कि हमने इन नेताओं को घर से बुलाकर टिकट दिया और लगकर चुनाव प्रचार किया और इन्हें विधायक बना दिया पर इन्होंने जनता के भरोसे को तोड़ते हुए अपने फायदे के लिए दूसरी पार्टी का दामन थाम लिया।


अमित शाह (Amit Shah) के जिंद रैली की बात करते हुए उन्होंने कहा कि इन नेताओं की भाजपा में कोई इज्जत नहीं है। जिंद में बेइज्जती करके बागी नेताओं को मंच से नीचे उतार दिया गया। इसके वीडियो भी खुद के पास होने की बात कही है।

इनेलो के वरिष्ठ नेता ने सत्ताधारी पार्टी भाजपा को निशाने पर लेते हुए कहा कि इस बार भाजपा 75 प्लस सीटों का आंकड़ा लेकर चल रही है पर चुनाव बाद पार्टी के खाते में 15 सीटें ही आएगी। जनता भाजपा से परेशान हो गई है। सरकार ने प्रदेश के युवाओं को नशेड़ी बना दिया है। नशा बेचने वालों को सरकार संरक्षण दे रही है।

उन्होने कहा कि प्रदेश के पांच जिले बाढ़ से बुरी तरह से प्रभावित हैं, वहीं दूसरी तरफ सिरसा जिले के किसानों को अभी तक पानी ही नहीं मिल पाया है। किसान वहां नहर में धरने पर बैठे हैं। सरकार का कोई भी आदमी वहां पहुंचना जरूरी नहीं समझ रहा है।

Next Story
Share it
Top