Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

राष्ट्रीय मनोविज्ञान क्वीज का विजेता बना चेन्नई का महर्षि इंटरनेशनल रेजिडेंशियल स्कूल

गुरुग्राम के फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट (FMRI) में राष्ट्रीय मनोविज्ञान क्वीज प्रतियोगिता का फाइनल मुकाबला हुआ। प्रतियोगिता के फाइनल में 700 स्कूलों की 4 हजार टीमों में से 6 टीमें पहुंची। जिसमें चेन्नई के स्कूल की टीम विजेता रही।

राष्ट्रीय मनोविज्ञान क्वीज का विजेता बना चेन्नई का महर्षि इंटरनेशनल रेजिडेंशियल स्कूलMaharishi International Residential School of Chennai became the winner of National Psychology Quiz

फोर्टिस स्कूल ऑफ मेंटल हेल्थ कार्यक्रम के तहत आयोजित साइक-ड (Psych-ed) में मंगलवार को खिताबी मुकाबले हुए। एफएमआरआई में खिताबी मुकाबले के दौरान छह फाइनलिस्टों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। जिसमें महर्षि इंटरनेशनल रेजिडेंशियल स्कूल, चेन्नई ने देश के एकमात्र साइकोलॉजी क्विज का खिताब जीता।

प्रतियोगिता के खिताबी मुकाबले में दिल्ली पब्लिक स्कूल चंडीगढ़, सेठ एमआर जयपुरिया स्कूल लखनऊ, नेवी चिल्ड्रेन स्कूल मुंबई, महर्षि इंटरनेशनल रेजिडेंशियल स्कूल चेन्नई, डीएवी मॉडल स्कूल आईआईटी खड़गपुर और द श्री राम स्कूल अरावली गुरुग्राम की टीमें पहुंची थी। ये टीमें चंडीगढ़, जयपुर, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और गुड़गांव में हुई जोनल प्रतियोगिताों को जीतकर पहुंची थी। जिसमें चेन्नई की टीम विजेता रही। जिसे फोर्टस हेल्थकेयर के प्रबंध निदेशक डॉ. आशुतोष रघुवंशी ने सम्मानित किया।

अच्छी सेहत-मानसिक स्वास्थ्य असल संपत्ति

इस दौरान डॉ. आशुतोष रघुवंशी ने कहा कि मानसिक स्वास्थ्य आज हर किसी की सेहत के लिए सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। अच्छी सेहत और मानसिक स्वास्थ्य आज के समय हमारी वास्तविक संपत्ति है। यह देखकर खुश हूं कि स्कूली बच्चों ने उत्साहपूर्ण तरीके से हिस्सा लिया। क्विज की अवधारणा तैयार करने वाले डॉ. समीर पारीख ने कहा कि साइकोलॉजी को सीखने की खुशी लाने और अधिक संख्या में युवाओं को विषय के बारे में पढ़ने के लिए प्रेरित करने के लिए इसका आयोजन किया गया था। हम चाहते हैं कि युवा पीढ़ी मानसिक स्वास्थ्य की ब्रांड एंबेसडर बने।

सात अगस्त से चल रही थी प्रतियोगिता

साइकोलॉजी क्विज की शुरुआत 7 अगस्त से हुई थी। जिसमें 200 शहरों से 700 से अधिक स्कूलों के 12,000 बच्चों ने भाग लिया था। 4,000 टीमों में से शीर्ष 72 टीमें जोनल राउंट में पहुंची। जोनल राउंट के 16 से 23 अगस्त के बीच हुए मुकाबलों में जीतकर छह टीमों ने फाइनल में जगह बनाई थी।

मानसिग स्वास्थ्य के प्रति किया जागरुक

प्रतियोगिता के आयोजन का उद्देश्य जमीनी स्तर पर साइकोलॉजी और मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता को बढ़ावा देना है। इसके कारण प्रतियोगिता में संवाद परक सवालों को शामिल किया गया। जिससे न सिर्फ छात्रों के ज्ञान को जांचा गया बल्कि टीमवर्क और दबाव में खुद से सोचने की क्षमता को भी आंका गया।

Next Story
Share it
Top