logo
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 हरियाणा : कांग्रेस में गुटबाजी शुरू, जारी सूची वापस ली गई

हरियाणा में कांग्रेस की गुटबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है। लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा गठित की गई हरियाणा की 16 सदस्यीय समन्वय समिति को कुछ घंटे में ही भंग कर दिया गया।

लोकसभा चुनाव 2019 हरियाणा : कांग्रेस में गुटबाजी शुरू, जारी सूची वापस ली गई

हरियाणा में कांग्रेस की गुटबाजी थमने का नाम नहीं ले रही है। लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा गठित की गई हरियाणा की 16 सदस्यीय समन्वय समिति को कुछ घंटे में ही भंग कर दिया गया। हरियाणा में कांग्रेस महासचिव प्रभारी गुलाम नबी आजाद की ओर से 4.23 बजे एक विज्ञप्ति जारी की गई, जिसमें लोकसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा अनुमोदित हरियाणा में 16 सदस्यीय समन्वय समिति की सूची जारी की गई, जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा को समिति का अध्यक्ष बनाया गया।

जबकि बाकी 15 सदस्यों में हरियाणा प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर के अलावा किरण चौधरी, सांसद कुमारी सैलजा व दीपेन्द्र हुड्डा, कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, कैप्टन अजय सिंह, कुलदीप विश्नोई, महेन्द्र प्रताप सिंह, नवीन जिंदल, कैलाशों देवी, अनिल ठक्कर, कुलदीप शर्मा, जयवीर सिंह वाल्मिकी और सरदार जयपाल संह लाली को सदस्य के रूप में शामिल किया गया था। इसके बाद साये 5.34 बजे मीडिया को जारी किए गए ईमेल में हरियाणा के प्रभारी महासचिव गुलाम नबी आज़ाद ने निर्देश का हवाला देते हुए कांग्रेस ने सूचना दी, कि हरियाणा की समन्वय समिति की सूची को वापस ले लिया गया है।

जारी सूची वापस ली गई

सूत्रों के अनुसार लोकसभा चुनाव की रणनीति और तैयारियों के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हरियाणा में एक 16 सदस्यीय समन्वय समिति का ऐलान किया था, लेकिन यह घोषणा सार्वजनिक होने के महज सवा घंटे बाद ही वापस ले ली गई है। समिति के नामों की सूची को वापस लेने का फैसला हरियाणा कांग्रेस के प्रभारी और पार्टी महासिचव गुलाम नबी आजाद ने लिया है, यह सूची जारी भी आजाद की ओर से की गई थी।

अशोक तंवर और भूपेश हुड्डा की वजह से सूली ली गई वापस

सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि हरियाणा में अशोक तंवर और भूपेन्द्र हुड्डा के बीच पुरानी तकरार की वजह से इस सूची को वापस लिया गया है। कांग्रेस पार्टी लोकसभा चुनाव के लिए देश के अन्य राज्यों में इस प्रकार की समितियों को गठन कर रही है। इसी के तहत हरियाणा के लिए भी बनाई गई। यह भी बताया जा रहा है कि इस समिति में शामिल किए गए नामों को लेकर भी दोनों गुटों को ऐतराज था, जिसके कारण फिलहाल समिति के गठन के निर्णय को कांग्रेस हाई कमान ने वापस लेना बेहतर समझा।

Share it
Top