Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

करनाल की बेटी प्रिया गुप्ता ने जज बनकर रचा इतिहास

हरियाणा के करनाल की प्रिया गुप्ता जज बन गई हैं। हरियाणा न्यायिक सेवा की परीक्षा में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। प्रिया गुप्ता ने जज बनकर इतिहास रच दिया है।

हैदराबाद एनकाउंटर पर सुप्रीम कोर्ट ने दिए जांच के आदेश, कल होगा जज का ऐलान
X
करनाल की बेटी प्रिया गुप्ता बनी जज (फाइल फोटो)

करनाल की बेटी प्रिया गुप्ता ने हरियाणा न्यायिक सेवा की परीक्षा में तीसरा स्थान प्राप्त किया है। गुप्ता ने साक्षात्कार में पहला स्थान प्राप्त किया है। इससे पहले राजस्थान ज्यूडिशियरी की परीक्षा और मध्यप्रदेश ज्यूडिशियरी की परीक्षा में सफलता हासिल कर चुकी है। तीनों परीक्षाओं में सफलता हासिल कर इतिहास रच दिया है।

करनाल के सेक्टर-8 में रहने वाले राजेंद्र गुप्ता एडवोकेट की पुत्री ने राजस्थान ज्यूडिशियरी की परीक्षा में सफलता प्राप्त की थी। गुप्ता द्वारा इंस्टीटयूट बेनर्जी क्लासिज में तैयारी की गई थी। इससे पहले यहां से तैयारी करने वाली स्वाति शर्मा ने मध्यप्रदेश ज्यूडिशियरी में पहला स्थान प्राप्त किया। इससे पहले यहां से तैयारी करने वाली चार लड़कियों का अलग-अलग राज्यो की ज्यूडिशियरी सर्विसेज में चयन हो चुका है।

आज बेनर्जी क्लासिज में सफलता का जश्न मनाया गया। इस अवसर पर इंटरव्यू गुरु मिहिर बनर्जी ने बताया कि उनके यहां से तैयारी कर आईएफएस की सेवा में जाने बाली गुरलीन कौर संयुक्त राष्ट्र संघ में कार्यरत है। उनसे सफलता के टिप्स ले कर यूपी एससीएच सीएस और विभिन्न राज्यों की प्रशासनिक और पुलिस सेवा में सफल होने वाले विद्यार्थियों की संख्या हजारों में है।

हरियाणा में जुडीशियरी सर्विसिज में तीसरा स्थान लेकर करनाल को गौरवान्वित करने बाली प्रिया गुप्ता ने बताया की बेटियों पर माता पिता भरोसा करें, उनको कभी निराशा नहीं होगी। उसने कहा कि वह चाहती है कि बेटियों की शादी की चिंता किए बिना बेटियों की शिक्षा पर खर्च करें। यही फि क्स डिपॉजिट है। बताया कि उसे तराशने में बनर्जी सर का महत्वपूर्ण स्थान है। वह पहले प्रयास में इंटरव्यू में पहला स्थान लेने के लिये बनर्जी सर ने इंटरव्यू लिया।

कई दौर के बाद उसमें गजब का आत्मविश्वास भर गया। उसके निर्माण में दयाल सिंह पब्लिक स्कूल, पंजाब यूनिवर्सिटी के लॉ विभाग का योगदान रहा। उसने पंजाब विश्व विद्यालय से एलएलबी और एलएलएम किया। वह खिलाड़ी भी रही। उसने बताया कि इस वार सामान्य में 14 का चयन हुआ इनमें दस लड़किया थी। पंजाब की लड़कियां अधिक थी। प्रिया ने बताया कि उसके पिता एडवोकेट और उसके दादा सरकारी अफसर हैं। उसका भाई एडवोकेट है। माता हाउस वाइफ है। उसे प्रेरणा अपने पिता से मिली। प्रिया गुप्ता ने बताया कि वह बड़ौता गांव के रहने बाले है। अपने पिता से जज के समक्ष चुनोतियो के बारे में जाना। इस अवसर पर गगन वनर्जी ने बताया कि उन्हें बेेटियो पर गर्व है। वह भी दो बेेटियों की माता है।

Next Story