Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जाट आंदोलनः ''काला दिवस'' मना रहे हैं जाट, हरियाणा में धारा 144 लागू

यशपाल मलिक ने कहा कि एक मार्च से जाट समुदाय सरकार के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरूआत करेगी।

जाट आंदोलनः
चंडीगढ़. आरक्षण की मांग को लेकर पिछले 28 दिनों से प्रदर्शन कर रहे जाट समुदाय आज राज्य के कई जगहों पर काला दिवस मना रहे हैं। इसको लेकर प्रदेश में सुरक्षा व्यवस्थआ चाक चौबंद कर दी गई है।

आपको बता दें कि काला दिवस प्रदर्शन का नेतृत्व अखिल भारतीय जाट आरक्षण समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और हरियाणा सरकार की नीतियों के खिलाफ जाट काली पगड़ी, टोपी, रिबन पहन हाथ पर काली पट्टी बांध कर प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने बताया कि जाटों ने करनाल, हिसार, रोहतक, जींद, कुरुक्षेत्र, कैथल और यमुना नगर की अनाज मंडी में शांतिपूर्ण प्रदर्शन किया।

यशपाल मलिक ने बताया कि एक मार्च से जाट समुदाय सरकार के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरूआत करेंगे। कहा कि जाट समुदाय के कोई भी लोग बिजली और पानी का बिल सरकार को अदा नहीं करेगा और न ही सरकार से लिए गए लोन को वापस करेगी। उन्होंने बताया कि दो मार्च को दिल्ली और यूपी के जाट राजधानी दिल्ली में शातिंपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करेंगे और राष्ट्रपति को आरक्षण के मुद्दे पर ज्ञापन सौंपेंगे।

बता दें कि काला दिवस को लेकर हरियाणा के मुख्य विपक्षी दल राष्ट्रीय लोकदल ने भी खुला समर्थन दिया है। पार्टी ने मांग की है कि राज्य सरकार को जाटों की मांग मान लेनी चाहिए।

वहीं प्रदर्शन को लेकर आईपीसी की धारा 144 के तहत आदेश जारी कर इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। बता दें कि यह आदेश रविवार शाम 5 बजे तक लागू रहेंगे। राज्य पुलिस प्रशासन ने खास तौर पर हाईवे, बस स्टैंड, रेलवे स्टैंड, नहरों व शहरों में सुरक्षा के विशेष इंतजामात किए हैं।

गौरतबल है कि इससे पहले फरवरी 2016 में जाट हिंसा भड़की थी, जिसमें राज्य की कानून व्यवस्था पूरी तरह से ठप पड़ गई थी। हिंसा में मंत्री और सांसद तक के घर को फुंक दिया गया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top