Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अवैध गर्भपात के मामले के बाद लीलावती अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग का छापा

जिन चिकित्सकों के नाम अस्पताल के बोर्ड तथा लैटर हेड पर दर्शाए गए थे वे चिकित्सक वहां तैनात नहीं था। छापामार टीम ने अस्पताल संचालक अनिल की डिग्रियों पर भी संदेह जताया।

सांकेतिक फोटोसांकेतिक फोटो

स्वास्थ्य विभाग की टीम ने वीरवार शाम को सफीदों के लीलावती मेमोरियल अस्पताल में छापेमारी की। बताया जाता है कि अस्पताल में अवैध रूप से गर्भपात करवाया गया था। छापा पड़ने की भनक मिलने पर अस्पताल संचालक भूमिगत हो गया। संचालक की डिग्रियों पर भी छापामार टीम ने संदेह जताया है। छापामार टीम ने प्रयोग हुई एमटीपी किट व कुछ दवाइयों को बरामद किया है। छापामार टीम के नोडल अधिकारी ने अस्पताल संचालक के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की सिफारिश की है।

स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभू दयाल को सूचना मिली थी कि सफीदों के लीलावती मेमोरियल अस्पताल में अवैध रूप से गर्भपात का गोरखधंधा होता है। जिसके आधार पर डा. प्रभू दयाल के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अस्पताल पर छापेमारी की। छापेमारी के दौरान चलाए गए तलाशी अभियान में प्रयोग की गई एमटीपी किट बरामद हुई। इसके अलावा कुछ प्रतिबंद्धित दवाइयां भी अस्पताल से बरामद हुई है।

खास बात यह भी रही कि जिन चिकित्सकों के नाम अस्पताल के बोर्ड तथा लैटर हेड पर दर्शाए गए थे वे चिकित्सक वहां तैनात नहीं था। छापामार टीम ने अस्पताल संचालक अनिल की डिग्रियों पर भी संदेह जताया। छानबीन के दौरान सामने आया कि पिछले दिनों लीलावती अस्पताल में गांव शाहपुर की 19 सप्ताह की गर्भवती का गर्भपात करवाया गया था। जिसकी एवज में दस हजार रुपये की राशि वसूली गई थी। स्वास्थ्य विभाग के पास अवैध रूप से अस्पताल में गर्भपात करवाने के पुख्ता सबूत मिलने के बाद छापेमारी की गई।

देर रात तक अस्पताल को खंगालने का सिलसिला जारी था। हैरानी की बात यह थी कि गर्भपात में प्रयोग किए जाने वाले औजार अस्पताल से बरामद नहीं हो सके। आशंका जताई जा रही है कि छापा पड़ने की भनक मिलने पर औजारों को छुपा दिया गया। स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभुदयाल द्वारा अस्पताल संचालक के खिलाफ पुलिस कार्रवाई की सिफारिश की गई है।

स्वास्थ्य विभाग के नोडल अधिकारी डा. प्रभू दयाल ने बताया कि अस्पताल में अवैध गर्भपात का गोरखधंधा होता था। हाल ही में 19 सप्ताह की गर्भवती का गर्भपात अस्पताल में करवाया गया था। भनक मिलने पर छापेमारी की गई है। अस्पताल संचालक भूमिगत हो गया है। अस्पताल से प्रयोग हुई एमटीपी किट व कुछ दवाईयां बरामद हुई है। जो भी अवैध रूप से गर्भपात के गोरखधंधे में शामिल पाया जाएगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Next Story
Top