Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महिला जूनियर कबड्डी का हरियाणा बना विजेता, मुख्यमंत्री मनोहर लाल रहे मौजूद

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय खेल परिसर में एमेच्योर कबड्डी एसोसिएशन हरियाणा द्वारा आयोजित चार दिवसीय 46वीं महिला एवं पुरुष जूनियर नेशनल कबड्डी प्रतियोगिता रविवार को संपन्न हो गई। फाइनल मुकाबले मुख्यमंत्री मनोहर लाल की मौजूदगी में हुए। इनमें हरियाणा की लड़कियों की टीम 11 अंक से विजयी हासिल की। बेटियों ने साई की टीम को पराजित किया। हरियाणा ने 29 अंक अर्जित किए। जबकि साई 18 ही बना सकी।

Pro Kabaddi 2019 Points Table: एक क्लिक में जानिए प्रो कबड्डी 2019 पॉइंट्स टेबल लिस्ट की पूरी जानकारी
X
कबड्डी

महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय खेल परिसर में एमेच्योर कबड्डी एसोसिएशन हरियाणा द्वारा आयोजित चार दिवसीय 46वीं महिला एवं पुरुष जूनियर नेशनल कबड्डी प्रतियोगिता रविवार को संपन्न हो गई। फाइनल मुकाबले मुख्यमंत्री मनोहर लाल की मौजूदगी में हुए। इनमें हरियाणा की लड़कियों की टीम 11 अंक से विजयी हासिल की। बेटियों ने साई की टीम को पराजित किया। हरियाणा ने 29 अंक अर्जित किए। जबकि साई 18 ही बना सकी। इसी प्रकार की लड़कों का फाइनल मुकाबला साई ने 5 अंक से जीता। साई की टीम ने 36, जबकि उत्तर प्रदेश की टीम ने 31 अंक बनाए। मुख्यमंत्री ने हरियाणा की लड़कियों की कबड्डी टीम को विजेता बनने पर शुभकामनाएं दी। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने दोनों टीमों के खिलाडिय़ों का परिचय प्राप्त किया।

खेल को दिया बढ़ावा

समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि सरकार द्वारा प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेल नीति में नकद पुरस्कार एवं रोजगार का प्रावधान किया गया है। ओलम्पिक खेलों में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को छह करोड़ रुपये, एशियन में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को 3 करोड़ रुपये तथा कॉमनवेल्थ खेलों में स्वर्ण पदक विजेता खिलाड़ी को डेढ़ करोड़ रुपये की ईनाम राशि का प्रावधान किया गया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि ओलम्पिक खेलों में हिस्सा लेने वाले प्रत्येक खिलाड़ी को 15 लाख रुपये की राशि प्रदान की जाती है। ताकि खिलाड़ी प्रदेश के साथ-साथ देश का नाम भी रोशन कर सकें।

कबड्डी पारम्परिक खेल

मुख्यमंत्री ने कहा कि कबड्डी खेल हमारा प्राचीन खेल है तथा इसकी उत्पत्ति दक्षिण भारत से हुई। देश में कबड्ïडी को विभिन्न नामों से जाना जाता है। कबड्ïडी खेल उनका प्रिय खेल रहा है तथा वे बचपन में कबड्ïडी खेलते थे। वर्तमान में कबड्डी में काफी बदलाव हुआ है तथा आजकल आधुनिक युग में मैट पर कबड्डी खेली जाती है। कबड्डी से मिलकर मुकाबला करने की भावना व साहस खिलाडिय़ों में आता है। इससे टीम भावना के साथ-साथ सामने वाली टीम को प्रास्त करने के होसले के साथ-साथ साथी खिलाडिय़ों को भी प्रेरणा देने की भावना पैदा होती है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर द्रोणाचार्य व अर्जुन अवार्डी खिलाडिय़ों को भी सम्मानित किया। एसोसिएशन की ओर से मुख्यमंत्री को पगड़ी व बैज लगाकर सम्मानित किया।

मेजबानी गौरव की बात

पूर्व परिवहन मंत्री एवं एमेच्योर कबड्डी एसोसिएशन हरियाणा के प्रधान कृष्ण लाल पंवार ने कहा कि चार दिवसीय कबड्डी प्रतियोगिता के आयोजन का जिम्मा हरियाणा को प्राप्त होना गौरव का विषय है। खिलाडिय़ों को सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया करवाई गई। हरियाणा प्रदेश प्राचीन समय से ही खेलों में अग्रीणी रहा है। मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों के लिए नकद राशि एवं रोजगार का प्रावधान भी किया।




Next Story