Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हरियाणा चुनाव : भाजपा को टक्कर देने के लिए कांग्रेस तैयार, इनेलो-जजपा को भारी पड़ रही अन्तर्कलह

हरियाणा विधान सभा चुनावों(Haryana Vidhan Sabha Election) में सीधी लड़ाई भाजपा और कांग्रेस(BJP-Congress fight) के बीच है, प्रदेश में छह महीने पहले तक मजबूत माना जाने वाला मुख्य विपक्षी दल इनेलो(INLD) अब दो-फाड़ हो चुका है जिससे यहां के राजनीतिक समीकरण बदले हुए नजर आ रहे हैं।

हरियाणा चुनाव : भाजपा को टक्कर देने के लिए कांग्रेस तैयार, इनेलो-जजपा को भारी पड़ रही अन्तर्कलहHaryana Vidhan Sabha Election BJP Congress fight

हरियाणा की राजनीति में इस बार लड़ाई कांटे की है सभी पार्टियां अपना पूरा जोर लगाकर चुनाव प्रचार में जुटी हुई हैं कई दलों के लिए इस बार का चुनाव प्रतिष्ठा की विषय बन गया है। भाजपा(BJP) प्रदेश में 'इस बार 75 पार' का नारा दे रही है वहीं कांग्रेस(Congress) सहित पूरा विपक्ष उसे रोकने में जुटा है।

हरियाणा चुनावों(Haryana Vidhan Sabha Election) की घोषणा होने के बाद से सभी पार्टियों ने कमर कस ली है इस बार के चुनावी समर में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर(MAnohar Lal Khattar) के सामने जहां पार्टी को एक बार फिर से चुनावों में जीत दिलाने का दारोमदार है, वही पार्टी से नाराज चल रहे कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा(Bhupinder Singh Hooda) के सामने संगठन को फिर से एकजुट करके भाजपा का सामना करने की बड़ी चुनौती है।

जानकारों की माने तो प्रदेश में सीधी लड़ाई भाजपा और कांग्रेस के बीच है, प्रदेश में छह महीने पहले तक मजबूत माना जाने वाला मुख्य विपक्षी दल इनेलो अब दो-फाड़ हो चुका है जिससे यहां के राजनीतिक समीकरण बदले हुए नजर आ रहे हैं, चौधरी देवी लाल के बनाई हुई पार्टी इनेलो में अब सिर्फ तीन विधायक बचे हैं।

जबकि पिछले चुनाव में इसे 19 सीटों पर जीत मिली थी। चौटाला परिवार में आपसी मतभेद के बाद बनी नई पार्टी जननायक जनता दल(जजपा) के लिए यह पहला चुनाव होगा जहां पार्टी को प्रदेश में अपनी राजनैतिक हैसियत का अंदाजा लगेगा।

भाजपा का 75 पार का लक्ष्य

भाजपा दूसरी बार प्रदेश में अपनी दम पर सभी सीटों पर मैदान में उतरेगी, इससे पहले भाजपा इनेलो के साथ गठबंधन करके हरियाणा की राजनीति में अपना दांव आजमाती रही है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर विरोधियों को निशाने पर लेते हुए इस बार 75 पार का नारा दे रहे हैं।

कांग्रेस की नाव सैलजा-हुड़्डा के सहारे

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंबर से नाराज पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड़्डा ने पार्टी आलाकमान की बात मानकर चुनाव प्रचार की कमान संभाल ली है। लोकसभा और विधानसभा चुनावों में मुद्दों को अलग-2 बताते हुए हुड्डा अपनी विरोधी कुमारी सैलजा के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चुनाव प्रचार में जुट गए हैं।

Next Story
Top