Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

हरियाणा फिर बना बेटी बचाओ में नंबर वन, ये जिले रहे सबसे आगे और नंबर वन पहुंचे 20वें स्थान पर

लिंगानुपात को लेकर आई ताजा रिपोर्ट के मुताबिक हरियाणा के विभिन्न जिलों में बेटियों की आबादी में बढ़ोतरी बढ़ती दिख रही है।

हरियाणा फिर बना बेटी बचाओ में नंबर वन, ये जिले रहे सबसे आगे और नंबर वन पहुंचे 20वें स्थान परहरियाणा में बेटी नंबर वन

बेटी बचाओ बेटी पढाओ में हरियाणा एक बार फिर आगे निकल गया है। यहां बेटियों को कोख में मारना अब बीते जमाने की बात हो गई है। लिंगानुपात को लेकर आई ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य के विभिन्न जिलों में बेटियों की आबादी में बढ़ोती बढ़ती दिख रही है।

आंकडों पर नजर डाले तो पिछले साल की तुलना में राज्य में बेटियों की संख्या बढी है। बीते साल 2018 में प्रदेश में लिंगानुपात की दर 914 थी, जो मौजूदा साल में 920 पहुंच गई है।

इस साल जनवरी से लेकर अक्टूबर महीने तक 1,000 लडकों पर 920 लडकियों ने जन्म लिया। यानि साल 2018 की तुलना में इसमें 6 लडकियों की संख्या बढ़ी है। 2011 में यह दर सबसे कमजोर थी। साल 2015 में यह दर 871 थी। वहीं 2016 में यह 900 रिकॉर्ड की गई थी।


बता दें कि बीते साल लिंगानुपात दर पाने वाले जिलों में सिरसा, करनाल, जीद सोनीपत, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, पंचकुला और भिवानी शामिल थे। ताजा आंकडों के अनुसार, सिरसा पहले स्थान से 20वें स्थान पर है। बीते साल सिरसा की दी 935 थी।

वहीं करनाल दूसरे स्थान से लुढककर 18वें स्थान पर पहुंच गया है। पहले इसकी दर 934 थी। जींद इस साल भी तीसरे नंबर पर बना हुआ है। इस बार ये दर 943 पहुंच गई है, जो पहले 927 थी। सोनीपत चौथे से 14वें स्थान से पहुंच गया है। वहीं यमुनानगर 5वें स्थान से चौथे स्थान पर आ गया है। पहले यह दर 925 थी अब यह 938 पर है। पहले स्थान पर पंजकुला है।

Next Story
Top