Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मिसाल: न बैंड न बाजा दहेज में लिए सात पौधे, नवदंपति ने जानवरों को दी दावत

ग्रीष्मा अंग्रेजी विषय में स्नातकोत्तर है, जबकि नितेश भारद्वाज मल्टीनेशनल कम्पनी में कार्यरत है। नितेश के पिता जमींदार हैं।

मिसाल: न बैंड न बाजा दहेज में लिए सात पौधे, नवदंपति ने जानवरों को दी दावत
अटेली. आज के दौर में जब शादियों में दहेज का बोलबाला है, कुछ युवा ऐसे भी हैं जोकि शिक्षित होने के साथ समाज को भी संदेश छोड़ते हैं। ऐसा ही सादगी का नजारा उस समय सामने आया जब अटेली की ग्रीष्मा और गुड़गांव के नितेश ने शनिवार को सादगी से शादी करके समाज को बड़ा संदेश दिया। शादी में न बैंड-बाजा था और न बाराती। दूल्हा-दूल्हन ने अपने परिजनों की मौजूदगी में अग्नि को साक्षी मान कर जीवन भर साथ निभाने के लिए सात फेरे लिए। दोनों की अरेंज मैरिज है। दहेज में वर पक्ष को सिर्फ सात पौधे दिए गए।
ग्रीष्मा अंग्रेजी विषय में स्नातकोत्तर है, जबकि नितेश भारद्वाज मल्टीनेशनल कम्पनी में कार्यरत है। नितेश के पिता जमींदार हैं। लड़की के पिता विष्णु शर्मा समाजसेवी हैं। उनकी पत्नी सरोज नगर पालिका के वार्ड 7 से पार्षद हैं। विष्णु कुमार शर्मा की पुत्री ग्रीष्मा शर्मा का विवाह ग्राम हालियाकी (गुड़गांव) के सरपंच नरेश भारद्वाज के सुपुत्र नितेश के साथ सादगी से हुआ। दूल्हा नितेश भारद्वाज पैदल चलकर कन्या पक्ष के द्वार पहुंचा। सभी रस्मों रिवाज एक रुपए से ही संपन्न हुई। कोई दहेज नहीं दिया गया। वर पक्ष की इच्छानुसार दहेज में पर्यावरण सुरक्षा के लिए सात पौधे दिए।
दोनों की परिवार के लोगों की सहमति के बाद विवाह रस्म अदा करने का निर्णय लिया था। इससे वो उन लोगों को संदेश देना चाहते हैं जो दहेज के लिए बेटियों को कोख में ही मार देते हैं। नितेश ने हरिभूमि से विशेष बातचीत में बताया कि उन्होंने बचपन से ही आदर्श विवाह करने का संकल्प ले रखा था। जब इस संबंध में उन्होंने परिवार के लोगों को बताया तो उन्होंने भी इस में सहमति जताई। इसी का नतीजा कि आज वो एक सादे समारोह में विवाह कर रहे हैं। उन्होंने नवयुवकों से इसी तरह विवाह करने की अपील की। जिससे पैसे की बर्बादी रुके। लड़कियों का सम्मान बढ़े। घर परिवार में शांति बने। दूसरी तरफ ग्रीष्मा ने कहा कि वो इस विवाह से खुश है। वो दिखावे में विश्वास नहीं रखती।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, नवदम्पति ने पशु-पक्षियों को दी दावत, शहर की सफाई की -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Share it
Top