Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कड़ाके का ठंडा रहा सोमवार, कई दिनों तक और जारी रहेगा हाड़ कपकपाने वाली ठंड का दौर

सूरज नहीं निकलने से सोमवार अब तक के मौसम का सबसे ठंडा दिन रहा। सुबह साढ़े पांच रोहतक का तापमान 8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया।

4.0 पारा के साथ कड़ाके की ठंड,7 शहरों में 10 डिग्री से नीचे रहा पारा7 शहरों में 10 डिग्री से नीचे रहा पारा

रोहतक में दिनभर चली शीत लहर के चलते क्षेत्र कड़ाके की ठंड की चपेट में आ गया है। सूरज नहीं निकलने से सोमवार अब तक के मौसम का सबसे ठंडा दिन रहा। सुबह साढ़े पांच रोहतक का तापमान 8 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। जिसमें दोपहर तक मात्र 7 डिग्री सेल्सियस की बढ़ाेतरी मुश्किल से हो पायी। अधिकतम तापमान 14.6 और न्यूनतम 5 डिग्री सेल्सियस रहा।

आने वाले दिनों में न्यूनतम तापमान में भारी गिरावट के संकेत मौसम विभाग की तरफ से दिए जा रहे हैं। हालांकि मंगलवार को अधिकतम तापमान में आंशिक रूप से बढ़ोतरी होने की उम्मीद है। बावजूद इसके ठंड से राहत नहीं मिलेगी। क्योंकि अभी कई दिन तक क्षेत्र में शीत लहर का दौर जारी रहेगा। सोमवार को हवा की गति 8 किलोमीटर प्रति घंटा की दर्ज की गई। गति में मंगलवार को बढ़ोतरी हो सकती है। ऐसे में हाड़ कम्पकपाने वाली सर्दी से फिलहाल राहत नहीं मिलेगी।

बच्चों को ऐसे बचाएं सर्दी से

तेज सर्दी से बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। ऐसे में बच्चों के सिर, पैर और कानों को ढांपकर रखें। सिर और पैरों से ही बच्चे ठंड की चपेट में आते हैं। इससे बचाव के लिए कपड़े हमेशा लेयरिंग में पहनाएं। एक-दो मोटे कपड़े के बजाय 3-4 पतले कपड़े उनके शरीर को ज्यादा गर्म रख सकते हैं। अंदर कॉटन के इनरवेयर जरूरी पहनाएं। उसके ऊपर वॉर्मर, फिर शर्ट,टी-शर्ट और ऊनी फ्रॉक का प्रयाेग करना चाहिए। बावजूद इसके बच्चों को ठंड लग जाती है तो तुरंत डॉक्टर के पास इलाज करवाएं। बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर बरती गई थोड़ी सी लापरवाही काफी नुकसानदायक साबित हो सकती है।

हाइपोथर्मिया से बचें

कड़ाके की ठंड में जो लोग सांस, दिल, हाई ब्लड प्रेशर बीमारी से पीड़ित होते हैं, उनका शरीर हाइपोथर्मिया की चपेट में आ जाता है। इस बीमारी से बच्चों और बुजुर्गों को सबसे ज्यादा खतरा रहता है। हाइपोथर्मिया में शरीर का तापमान बहुत कम हो जाता है। जिसकी वजह से शरीर की नसें तेजी के साथ सिकुड़ती हैं। इनमें खून का प्रवाह बहुत कम हो जाता है। दिल, फेफड़े, लीवर पर दबाव बढ़ जाता है।

फेफड़ों को ऑक्सीजन नहीं मिलने से सांस के मरीजों की समस्या गंभीर हो जाती है। चिकित्सकों के मुताबिक शरीर का सुन्न होना और सुस्ती खतरनाक साबित हो सकती है। शरीर का ठंडा और सुन्न हो जाना, सुस्ती छा जाना, हल्की बेहोशी आना आदि व्यक्ति के अत्यधिक ठंड के चलते हाइपोथर्मिया से ग्रसित होने के लक्षण हैं। ऐसे में मरीज को तत्काल गर्माहट देने का प्रयास करना चाहिए।

गेहूं के लिए फायदेमंद

कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के उप निदेशक डॉ. रोहतास सिंह के मुताबिक गेहूं के लिए ठंड बहुत जरूरी होती है। जितनी अधिक ठंड होगी, गेहूं की फसल उतनी अच्छी होगी। मौसम में गेहूं के पौधे की बढ़वार रुक जाती है और फुटाव शुरू हो जाता है। जब फुटाव अधिक होगा तो फसल की पैदावार अच्छी होगी। ठंड से सरसों और सब्जी की फसल को थोड़ा बहुत नुकसान हो सकता है। अधिक ठंड होने से सरसों की फसल में अल आ सकता है। जबकि टमाटर, आलू और बैंगन की फसल में भी दिक्कत आ सकती हैं।

3-4 दिन तक ऐसा रहेगा मौसम

बीते तीन दिन में अधिकतम पारा 18 डिग्री सेल्सियस के पास ठहरा हुआ था। लेकिन सोमवार को इसमें दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट और होते ही कड़ाके की सर्दी का एहसास हुआ। मौसम विभाग का कहना है कि मंगलवार को अधिकतम तापमान में एक-दो डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी तब हो सकती है, जब सूरज निकले। अगर सूरज नहीं निकला तो पारा और गोता लगा सकता है। लेकिन न्यूनतम तापमान में अभी और गिरावट होगी। अगले तीन दिन तक अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम 5-7 डिग्री सेल्सियस के बीच रह सकता है।

पशुओं को ऐसे बचाएं सर्दी से

पशुओं को सर्दी से बचाव के लिए घर में एक निश्चित तापमान बनाकर रखें। दिन अगर धूप निकलती है तो उन्हें धूप में बांधे, परन्तु इस दौरान ठंडी हवा पशु को न लगे। यह ध्यान अवश्य रखें। बैठने के स्थान को सूखा रखने का प्रयास करें। पराली या कोई नर्म, सस्ती तथा पानी चूसने वाली चीज पशुओं के नीचे फर्श पर डालें, जिससे फर्श सूखा रहे और सफाई भी आसानी से हो सके| जब भी पशु को पानी की आवश्यकता हो। उसे ताजा पानी ही पिलाएं। क्योेंकि ताजे पानी का तापमान पशु के शरीर के समान ही होता है। ऐसे में पशुधन को सर्दी नहीं लगेगी। बरसीम या अन्य हरा चारा खिलाने से पहले थोड़ा-सा सूखा चारा खिलाएं।

111 रहा एक्यूआई

बारिश होने की वजह से शहर की आबोहवा फिलहाल तक सांस लेने के लायक बनी हुई है। सोमवार शाम को सवा छह बजे पीएम 2.5 की मात्रा 111 दर्ज की गई। हालांकि रविवार की अपेक्षा सोमवार को 25-30 अंकों की बढ़ोतरी दर्ज हुई है। बावजूद इसके स्थिति संतोषजनक है।

Next Story
Top