Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा सरकार ने किया लॉकडाउन, मिड डे मील के लिए बच्चों को बुला रहे स्कूल

कोरोना हाईअलर्ट के बीच कैमला गांव के सरकारी स्कूल की बड़ी लापरवाही सामने आई है। स्कूल प्रबंधन ने मिड डे मील वितरण के लिए सैंकड़ों छात्रों को स्कूल में बुला लिया।

हरियाणा सरकार ने किया लॉकडाउन, मिड डे मील के लिए बच्चों को बुला रहे बच्चे
X
हरियाणा स्कूल (प्रतीकात्मक फोटो)

कोरोना हाईअलर्ट के बीच कैमला गांव के सरकारी स्कूल की बड़ी लापरवाही सामने आई है। स्कूल प्रबंधन ने मिड डे मील वितरण के लिए सैंकड़ों छात्रों को स्कूल में बुला लिया। लॉकडाउन के बावजूद स्कूल में बच्चों को देख ग्रामीणों में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ रोष उत्पन्न हो गया। ग्रामीणों और स्कूल प्रबंधन के बीच काफी नोंकझोंक भी हुई।

स्कूल प्रबंधन ने अपनी सफाई दी और कहा कि उन्होंने सिर्फ दो बच्चों को स्कूल में बुलाया था, ताकि घर-घर मिड डे मील बांट सकें। ग्रामीणों ने स्कूल को खाली करवाया और स्कूल प्रबंधकों की इस कारगुजारी की शिकायत एसडीएम को की। उपमंडलाधिकारी ने बीईओ को मामले की जांच के आदेश जारी कर दिए है। कोरोना महामारी से बचने के लिए प्रदेश में लॉकडाउन कर दिया गया है।

इसी वजह से 10 दिन की छुट्टियों के दौरान स्कूल बच्चों तक खाना पहुंचानें के लिए विभाग ने शिक्षकों की ड्यूटी लगाई है। शिक्षा को हर विद्यार्थी के हिस्से आने वाला खाना उनके घरों तक पहुंचाना होगा, लेकिन सरकार के इन आदेशों को स्कूल प्रबंधन ठीक ढंग से पालन नहीं कर रहे है। कैमला गांव में मिडिल स्कूल के अध्यापकों की कारगुजारी देखने को मिली। यहां सुबह अध्यापकों के पहुंचनें से पहले ही स्कूल के एक कर्मचारी जगदीश ने मिड डे मील वितरण के लिए सैंकड़ों छात्रों को स्कूल में बुला लिया।

कोरोना के कहर के बीच स्कूल में बच्चों को देख ग्रामीण स्कूल कर्मचारी पर भड़क गए। जब कर्मचारी से स्कूल की अध्यापिका के बारे में पूछा गया तो अध्यापिका स्कूल में मौजूद ही नहीं थी। करीब आधा घंटे बाद अध्यापिका सुमन स्कूल में पहुंची। जहां ग्रामीणों ने अध्यापिका को घेर लिया और लॉकडाउन के बीच बच्चों के स्कूल में बुलाने का कारण पूछा। अध्यापिका ने अपनी कारगुजारी का ठिकरा कर्मचारी पर फोडऩा चाहा और सफाई देनी शुरू कर दी।

अध्यापिका ने ग्रामीणों को बताया कि उन्होंने सिर्फ दो या तीन बच्चों को स्कूल में बुलाने के लिए कर्मचारी को कहा था, ताकि मिड डे मील को घर-घर तक वितरित किया जा सकें, लेकिन कर्मचारी सभी बच्चों को बुला लाया। वहीं कर्मचारी जगदीश ने बताया कि उसको मैडम ने कहा था कि बच्चों को मिड डे मील के लिए स्कूल में बुला लाओ। उन्हीं के आदेश पर बच्चों को स्कूल में लाया गया है।

एसडीएम ने किया खंड मौलिक शिक्षा अधिकारी को तलब-

कैमला गांव में आदेशों के बावजूद खोले गए स्कूल को लेकर एसडीएम गौरव कुमार ने कड़ा संज्ञान लिया है। उन्होंने बीईईओ महाबीर सिंह को नोटिस जारी करते हुए इस मामले में तलब किया है। एसडीएम गौरव कुमार ने बताया कि यह एक बड़ी लापरवाही है। बीईईओ से जवाब मांगा गया है कि किसकी जिम्मेदारी पर बच्चों को स्कूल में बुलाया गया था। रिपोर्ट आने पर ही आगामी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।

Next Story