Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हरियाणा में 15 अप्रैल से फसल खरीदेगी सरकार, 50 से अधिक किसानों को मंड़ियों में नहीं मिलेगा प्रवेश

यह निर्णय कोरोना वायरस की महामारी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों को बनाए रखने के लिए लिया गया है

कृषिमंत्री ने किया प्रदेश के दूसरे एकीकृत पैक हाउस का शुभारंभफसल (प्रतीकात्मक फोटो)

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने रबी खरीद सीजन के दौरान सरसों और गेहूं की खरीद को आसान बनाने और मंडियों में भीड़ को कम करने के लिए मंडियों में एक समय में किसानों के प्रवेश की सीमा को 50 किसानों तक सीमित करने का निर्णय लिया है। यह निर्णय कोरोना वायरस की महामारी के मद्देनजर सोशल डिस्टेंसिंग के मानदंडों को बनाए रखने के लिए लिया गया है।

कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के प्रवक्ता ने इस संबंध में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि रबी खरीद सीजन 2020-21 (गेहूं, सरसों और चना) 15 अप्रैल से आरंभ होगा और 30 जून, 2020 तक जारी रहेगा। किसानों को मंडियों में दो टाइम स्लॉट- सुबह आठ बजे से दोपहर दो बजे तक और दोपहर ढाई बजे से शाम छ: बजे तक जाने की अनुमति होगी।

प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड ने खरीद के सुचारू संचालन और खरीद कार्यों में शामिल सभी हितधारकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं। उन्होंने बताया कि मंडियों में भीड़ को कम करने के लिए, रबी खरीद सीजन 2020-21 में गेहूं की खरीद को 20 अप्रैल और सरसों और चना को 15 अप्रैल, 2020 से शुरू किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि खरीद को नियंत्रित करने और मंडियों में भीड़ इकत्र न हो, इसके लिए मार्केट कमेटी यह सुनिश्चित करेगी कि सभी कृषि उत्पाद अर्थात गेहूं, सरसों, और चना को ऑनलाइन ई-गेट पास के जारी होने पर ही मंडी में प्रवेश दिया जाए और यह पास केवल 'मेरी फसल-मेरा ब्यौरा' पोर्टल पर पंजीकृत और सत्यापित किसानों को जारी किया जाएगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश के जो किसान अभी 'मेरी फ़सल-मेरा ब्यौरा' पोर्टल पर पंजीकृत नहीं हैं, वे 19 अप्रैल, 2020 तक पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Next Story
Top