Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Haryana Election 2019: दलबदलुओं को नहीं मिलेगी टिकट, पुराने कार्यकर्ताओं पर भरोसा

हरियाणा में विधानसभा चुनावों को लेकर राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक हुई है। जिसमें दूसरी पार्टियों से आकर भाजपा थामने वाले नेताओं को टिकट में तरजीह नहीं देने का फैसला किया गया है। दलबदलुओ की जगह पार्टी के वफादार कार्यकर्ताओं को ही टिकट देगी।

Haryana Election 2019:  दलबदलुओं को नहीं मिलेगी टिकट, पुराने कार्यकर्ताओं पर भरोसा

प्रदेश में विधानसभा चुनावों को लेकर पार्टियों ने रणनीति पर कार्य शुरू कर दिया है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की तरफ से हरियाणा की 90 सीटों पर टिकट बंटवारे की योजना तैयार की गई है। ताकि भाजपा की दोबारा से पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनायी जा सके। सूत्रों के मुताबिक कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने दिल्ली में मंगलवार देर शाम तक हरियाणा के संगठन मंत्री और प्रदेश प्रभारी के साथ बैठक हुई। जिसमें फैसला हुआ कि पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा ने 47 सीटें जीती थी। इन सीटों पर दोबारा भाजपा के कार्यकर्ताओं पर ही भरोसा किया जाएगा। जीती हुई सीटों पर सिर्फ वर्तमान विधायक और पुराने कार्यकर्ता को ही टिकट दी जाएगी।

हारी हुई सीटों पर मिल सकता है मौका

विधानसभा चुनावों में दूसरी पार्टी छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले नेताओं को टिकट मिलने की संभावना बेहद कम है। हालांकि जो सीटें भाजपा पिछले चुनाव में हार गई थी उनमें से कुछ सीटों पर दलबदलू मजबूत नेताओं को टिकट मिल सकता है। इसके अलावा पिछले कुछ दिनों में दूसरी पार्टियों के करीब 15 विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं। उन्हें भाजपा की तरफ से टिकट दिया जा सकता है।

भाजपा की रणनीति में बदलाव

भारतीय जनता पार्टी की तरफ से रणनीति में बदलाव किया गया है। जन आशीर्वाद यात्रा को मिल रहे प्रदेश की जनता के समर्थन के बाद फैसला किया गया है। भाजपा के वर्तमान 47 विधायकों में से अधिकांश को आगामी चुनावों में दोबारा टिकट मिलेगा। जिनकी रिपोर्ट क्षेत्र में बेहद खराब है उनके ही टिकट काटे जाएंगे।

अमित शाह रख रहे कड़ी नजर

गृह मंत्री अमित शाह भले अब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष नहीं हैं। लेकिन चुनावी तैयारियों को लेकर कड़ी नजर रख रहे हैं। प्रदेश के संगठन मंत्री और प्रदेश प्रभारी के साथ बूथ स्तर की तैयारियों की जानकारी गृह मंत्री अमित शाह ने मांगी। इसके अलावा विधानसभा वाइज स्थानीय मुद्दों की भी समीक्षा की है। ताकि चुनावों में बड़ी जीत हांसिल की जा सके।

Next Story
Share it
Top