Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''1000 लड़कों पर 900 लड़कियों की रिपोर्ट गलत''

हरियाणा में पिछले साल राज्य सरकार ने लिंगानुपात के आकंड़ों में गड़बड़ी दिखी।

हरियाणा में पिछले साल राज्य सरकार ने लिंगानुपात के आकंड़ो के साथ छवि बदलने की बात कही। तो वहीं अब हरियाणा में सेक्स रेशियो को लेकर किए गया दावा झूठा साबित हुआ है।

हरियाणा में जहां 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं' का नारा जोरों शोर से चला तो वहीं जब इसी कैंप ने इसकी हिकिकत जाने तो पता चला कि सिर्फ कागजों में भी लिंगानुपात के आकड़ों की गड़बड़ी सामने आई है।

इस टीम की राज्य के 10 में से 8 जिलों की ऑडिट रिपोर्ट में यह सामने आया है कि इस साल की पहली तिमाही में कागजों पर लड़कियों की संख्या में काफी गड़बड़ी है। कुछ मामलों में लड़कियों की संख्या बढ़ा-चढ़ाकर लिखी गई है।

कैंपेन ने ऑडिट रिपोर्ट से पता चला कि जनवरी-मार्च की तिमाही में लड़कियों की संख्या लड़कों से भी पार ले जाने वाले पानीपत की असल तस्वीर तो कुछ और ही है।

1,007 लिंगानुपात के साथ दूसरे नंबर पर रहने वाले पानीपत जिले का असल अनुपात 872 है।

तीसरे नंबर के जिले नरनौल में 968 लड़कियों के साथ लिंगानुपात ये था लेकिन यहां जब रिपोर्ट सामने आई तो लड़कियों की संख्या 841 निकली।

इसी तरह झज्जर में कागजों पर 845 की जगह 949, सोनीपत में 870 की जगह 948, कैथल में 890 की जगह 939 और फरीदाबाद में 872 की जगह 926 नंबर दर्ज था।

लेकिन अब देखना ये होगा कि इस रिपोर्ट के बाद राज्य सरकार हर साल पेश करने वाले आंकड़ों में कितनी बढ़ोतरी करेगी।

Next Story
Share it
Top